बुधवार, 10 अगस्त 2011

हरदीप कौर संधु के तीन हाइगा (चित्रमय कविता)

 

हरदीप कौर संधु के तीन हाइगा :

Haiga .1- Sandhu

 

Haiga .2- Sandhu

Haiga .3- Sandhu

*हाइगा [ चित्र - कविता ]

जापानी भाषा में ‘ हाइगा’ का अर्थ है ‘ चित्र – कविता’ ।

चित्र और हाइकु को अगर जोड़ दिया जाए तो बन जाता है- ‘हाइगा’

हाइकु की तरह ‘हाइगा’ भी चित्र के भाव तीन पंक्तियों में प्रकट करने की क्षमता रखता है ।

डॉ. हरदीप कौर सन्धु

10 blogger-facebook:

  1. हरदीप जी की सशक्त लेखनी की एक और बानगी...तीनो हाइगा बहुत अच्छे हैं...बधाई...।

    प्रियंका गुप्ता

    उत्तर देंहटाएं
  2. हाइगा अच्छे लगे.

    उत्तर देंहटाएं
  3. लो कर लो बात,अब तक तो आपके हायकू ही देखे थे,आज हायगा का भी पता चला.....हाँ बेशक अच्छे भी हैं....पीछे बहुतों-बहुत दिनों तक नेट से दूर-दूर ही रहा...बीते कुछ दिनों से वापस आना शुरू किया है....अब मिलना है फिर से बहुत सारे दोस्तों से...शुभाकांक्षियों से...और अन्य बहुतों से......शुरुआत आपसे सही....ठीक है ना....!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. हरदीप जी कमाल के हाइकू लिखती हैं...उनके हाइगा भी कमाल के हैं ..

    उत्तर देंहटाएं
  5. Bahut pasnd aaye aapke tinom hi haiga...aapko bahut2 badhai..

    उत्तर देंहटाएं
  6. हरदीप जी पंजाबी भाषा के साथ -साथ हिन्दी में भी उसी दम-खम से हाइगा , हाइकु , ताँका और चोका लिखकर इतिहास बना रही हैं । इनकी हर रचना आशान्वित करती है । हाइकु को कुछ लोगों ने कचरे से पाटना शुरू कर दिया था , शॉर्टकट समझकर ऐसे लोगों को हरदीप जी के ब्लाग भी पढ़ने चाहिए ।रचनाकार यदि संवेदनशील नहीं है तो फिर वह तुकान्त /अतुकान्त कुछ भी अच्छा नहीं लिख सकता । अज्ञेय और निराला ने मुक्तछन्द में लिखने पर भी छन्द को सिद्ध कर लिया था । हरदीप ने विश्वभर के लोगों को इस विधा से जोड़ा है ।यह वही हरदीप हैं विज्ञान की विदुषी , जिनको कभी हिन्दी शिक्षकों ने हतोत्साह ही किया था । बहुत बहुत बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  7. hardeep ji haiga mujhe bahut pasand hai .chitr pr kavita padhkar anaanad aajata hai .fir aapki lekhni kamal hai bahut hi achchha likhti hai aap
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  8. यह मेरे लिए सुखद है कि आपको मेरे हाइगा पसंद आए !
    हर्षित हूँ !
    आभार.....
    इसी तरह आत्मीयता बनाएं रखें।

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------