सोमवार, 22 अगस्त 2011

दामोदर लाल ‘जांगिड‘ की कृष्ण जन्माष्टमी विशेष रचना

कृष्ण मुरारी

कृष्ण मुरारी फिर ले लो अवतार धरा पर कृष्ण मुरारी।

 

भक्त करे अरदास, तुम्ही से आस ,

डिगेगा अब उनका विश्वास,

मिटाओ आकर उनकी त्रास,

शीघ्र ही अब बनवारी।

फिर ले लो अवतार धरा पर कृष्ण मुरारी।

 

धर्म पर हुऐ हैं इतने प्रहार,

हुआ है वो बेबस लाचार,

अधर्म से त्रस्त सकल संसार,

बचाओ आकर फिर एक बार,

तकें हैं राह तुम्हारी।

फिर ले लो अवतार धरा पर कृष्ण मुरारी।

 

हरण कहीं हो कृष्णा का चीर,

दिखे न कोई यादव वीर,

सुनो तो तुम यमुना के तीर,

धेनुओं का क्रंदन गम्भीर,

पुकारे हैं दुखीयारी ।

फिर ले लो अवतार धरा पर कृष्ण मुरारी।

 

सुदामा की निर्धनत भांप,

कलेजा जाऐ तेरा कांप,

रही है फिर कांिलदी हांफ,

बसेरा करे कालिए सांप,

दया करना उपकारी ।

फिर लेलो अवतार धरा पर कृष्ण मुरारी।

 

दामोदर लाल ‘जांगिड‘

2 blogger-facebook:

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------