सोमवार, 29 अगस्त 2011

पिलकेंद्र अरोरा के कुछ सड़कछाप दोहे


image

निर्माण तेरा बुदबुदा, अस मानुस की जात
रात बनत उखड़ जात है, ये सड़क प्रभात

सड़क में गड्ढे गड्ढे में सड़क, भीतर बाहर है मिट्टी
मिट्टी गिट्टी में मिली, गुमी निगम की सिट्टी पिट्टी

काल गिरे सो आज गिर, आज गिरे सो अब
डामर ठंडा बिछ जाएगा, तू बहुरि गिरेगा कब?

लिस्ट जो देखन में चला, ब्लैक न मिलिया कोय
दुर्भाग्य जो खोजा आपना, उस-सा ब्लैक न कोय

टेंडर का टुकड़ा बुरा, दो दो आंगुल दाँत
फिक्सिंग करे तो पास हो, नारद मारे लात

ठेकेदार इतना दीजिए, जामे डिपार्टमेंट समाय
इंजीनियर भूखा न रहे, अफसर न भूखा जाए

नेता अफसर दोऊ खड़े, पहले काके लागू पाए
बलिहारी नेता आपकी अफसर दियो बताए

(संत कवि कबीर से क्षमा याचना सहित)

(साभार - पत्रिका, इंदौर संस्करण - 29-8-11 )

2 blogger-facebook:

  1. पिलकेन्द्र जी के ये सड़कछाप दोहों की जितनी तारीफ़ करूँ, कम है...। कबीर जी आज की परिस्थितियों को देखते हुए निश्चय ही आपको क्षमा करेंगे...। मेरी बहुत बधाई स्वीकारें...।
    प्रियंका गुप्ता

    उत्तर देंहटाएं
  2. पिलकेंद्र जी, पहली बार मैने किसी का लिखा ऐसा अच्छा व्यंग्यात्मक दोहा पढ़ा...बहुत शानदार लगा...बधाई...।
    प्रेम गुप्ता ‘मानी’

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------