रविवार, 28 अगस्त 2011

राहुल तिवारी की कविता - गांधी की नयी तस्वीर

गाँधी की नयी तस्वीर

image

कुछ यूं किसी ने आस जगाई है

न कोई दल न मजहब

न जाती की लड़ाई  है

अन्ना तेरी जिद ने

गाँधी की नयी तस्वीर बनाई है

 

भ्रष्टाचारी नेताओं ने

हर बाजी मुंह की खाई है

पर तेरी सच्ची निष्ठा से

सत्ता भी शरमाई  है

अन्ना तेरी जिद ने

गाँधी की नयी तस्वीर बनाई है

 

भारत की कुछ रस्मों पर
जीवन फिर से मुस्काई है
लोकपाल न आये फिर भी
युवा लोकतंत्र की अंगड़ाई है
बुझ चुके एहसासों में
फिर तूने चिंगारी भड़काई है
अन्ना तेरी जिद ने
गाँधी की नयी तस्वीर बनाई है

जनता है, जूझती घेरे महंगाईहै
पर सत्ता को कैसी चिंता
उनके पास तो सारी मलाई है
पर हम मालिक वो नौकर हैं
यह अधिकारों की लड़ाई है
लोकतंत्र में लोगो की महता
आज तूने समझाई है
अन्ना तेरी जिद ने
गाँधी की नई तस्वीर बनाई है

है कैसा ये लोक.... तंत्र
बिच में गहरी खाई है
हिन्दू मुस्लिम अलग नहीं हैं
वो तो भाई -भाई हैं
एक तिरंगे के नीचे
अहिंसा की ताक़त तूने समझाई है
अन्ना तेरी जिद ने
गाँधी की नयी तस्वीर बनाई है

…………………………………

image

राहुल तिवारी
c /o बाल्मीकि तिवारी
नमना कला (पानी टंकी के पास )
अंबिकापुर
जिला - सरगुजा . पिन - 497001
(छत्तीसगढ़)

E-mail – rahultiwari131985@gmail.com

4 blogger-facebook:

  1. अन्ना जी की जीत पर सबको बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. इसमें कोई शक नही अन्ना ने गांधी की नै तस्वीर बने है हम जैसे जिन्होंने गांधी को सिर्फ पढा है उनकी आँखों ने वैसे ही एक आंदोलन को होते देखा है ...नए रचे गए इतिहास के गवाह बने हम सब.बधाई जिनके प्रयासों से यह एक सकारात्मक कदम तो उठा.
    जो आम जनता सोच रही है उसी बात को शब्दों में खूब ढाला है आपने बन्धु!

    उत्तर देंहटाएं
  3. kavita achchhi hai vastav me anna ka andolan bharat ke andolan tatha bhartiyo ki ekta ka swarnim prishth hai
    dhanyavad

    उत्तर देंहटाएं
  4. ankur6:20 pm

    tere liye nit nayi kurbani
    nahi hai ye logo ki nadani
    bhara ke loktantra me
    aaj bhi yad hai shahido ki kurbani

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------