सुरेन्‍द्र अग्‍निहोत्री की कविता

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

जीत, हार के भ्रम में

कब तक हम सब

खून से लथपथ या अन्‍य शहर

की सड़कें, गलियां, घर

कब तक कितने दिन और

कितने परिवार होंगे बेघर

उन्‍हें जो जनतन्‍त्र के लिए

कभी अंग्रेजों से लड़ते रहे

क्‍या जवाब देंगे

अब भी क्‍या हुआ है?

 

परिवर्तन में सिर्फ

गोरों की जगह काले-

खास लोग ही आये है

जो कभी गोरों की

चिलम भरते थे।

वे ही हम पर लाठी, गोली

चलवाते अपनों से अपनों पर

क्‍या इतने जर्जर हो गये हम

खामोशी के साथ

सारे प्रहार सहते रहेंगे

या प्रतिरोध भी कर सकेंगे?

 

--सुरेन्‍द्र अग्‍निहोत्री

राजसदन- 120/132

बेलदारी लेन लालबाग,

लखनऊ।

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "सुरेन्‍द्र अग्‍निहोत्री की कविता"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.