बुधवार, 17 अगस्त 2011

आर.वी.सिंह की मानसूनी बाल कविता - पूरब से आ गई हवाएँ

पूरब से आ गईं हवाएँ

DSCN5246 (Medium) (Mobile)

पूरब से आ गईं हवाएँ

नभ पर लो छा गईं घटाएँ

जोर-जोर से कड़के बिजली

बादल उमड़-घुमड़ गरजाएँ

 

जी करता है उड़ें हवा में

भीगें रिमिर-झिमिर वर्षा में

जाकर बैठ रहें बादल पर

इन्द्रधनुष से तीर चलाएँ

 

छपक-छपक पानी के धारे

बहते हैं नारे-परनारे

चलो बना कागज की नौका

हम भी उनमें आज तिराएँ

 

धानी वसन धरा ने धारा

हर्षित हुआ जगत है सारा

मोर नाचते हैं बगिया में

मेंढकजी मलहार सुनाएँ

 

कुदरत की कितनी सौगातें

सुन्दर ऋतुएं सुखकर रातें

आओ मिलकर सभी सहेजें

कुदरत की सब सुन्दरताएँ

रात-रात जी भर टर्राएँ

--

आर.वी.सिंह/R.V. Singh
उप महाप्रबन्धक (हिन्दी)/ Dy. G.M. (Hindi)
भारतीय लघु उद्योग विकास बैंक/ Small Inds. Dev. Bank of India
प्रधान कार्यालय/Head Office
लखनऊ/Lucknow- 226 001
फोन/Phone-2288774
मोबाइल/Mob-9454712299
ईमेल/email-rvsingh@sidbi.in

1 blogger-facebook:

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------