सुरेन्‍द्र अग्‍निहोत्री की कविता - हम जानते हैं

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

हम जानते हैं

हर इंसान में

सरकार होती है

एक दिन के लिए

जिम्‍मा मिले तो

आश्‍वस्‍त करता हूं

दर्द की परछाइयाँ

भूली-बिसरी बात होगी

बदल जायेगी

सत्‍ता की परिभाषा

नहीं होगी

घोटाले बाज की बेल

अन्‍ना को जेल

संसद, सांसदों की नही

जनता की होगी

जन के अधिकारों की

अब नही कटौती होगी

होने को कुछ भी हो सकता है ?

हे राम !

अलविदा भाजपा

या कांग्रेस

बेमानी लोकशाही

जब लोक के लिए होगी

जनता तब

चुप नहीं होगी।

---

 

-सुरेन्‍द्र अग्‍निहोत्री

राजसदन- 120/132

बेलदारी लेन, लालबाग

लखनऊ

मो0ः 9415508695

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

2 टिप्पणियाँ "सुरेन्‍द्र अग्‍निहोत्री की कविता - हम जानते हैं"

  1. बेनामी4:33 pm

    कविता बेहतरीन हैं……सुन्दर भावों के धागे में पिरो कर शब्दों की माला बहुत खूबसूरत है….धन्यवाद…:)निष्ठा

    उत्तर देंहटाएं
  2. बेनामी5:20 pm

    Kavita bahut achchhi hai. AKSonkar

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.