अजय कुमार तिवारी की कविता - जागो फिर एक बार

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

जागो फिर एक बार

जाने क्‍यों बरसात भी कम हो रही है दोस्‍तों।

ईमान की सरिता ये सूखी रो रही है दोस्‍तों ।

 

लोभ की चढ़ती नदी गरमा गई है इस कदर

हिम की पट्‌टी कट के पानी हो रही है दोस्‍तों ।

 

पर्वतों से हाल पूछा भरभराकर बोला वो

खदानों से नींव खंडहर हो गई है दोस्‍तों ।

 

सूखा जंगल सत्‍य का लहरा रही कसबेंवरें ,

नाथुओं की फौज भारी हो रही है दोस्‍तों ।

 

साधु ,बाबा ,संत व्‍यापारी हुए हैं आजकल ,

फिक्र बस धंधे की उनको हो रही है दोस्‍तों ।

 

बीज बोओ तुम चरागों को तो कुछ एहसान हो ,

हर तरफ तम की दुपहरी हो रही है दोस्‍तों ।

 

हाईब्रिड कुछ खून की तुम कुछ लगाओ फैक्टरियाँ ,

बंदूकों की जद ये फैली जा रही है दोस्‍तों ।

 

कुछ शहीदों ने दिलाई कौम को स्‍वाधीनता ,

जागो फिर एक बार माता रो रही है दोस्‍तों ।

--

अजय कुमार तिवारी

बी-14,डी.ए.वी. स्‍टाफ कालोनी,

जरही, भटगाँव कालरी,

जिला-सरगुजा , छत्‍तीसगढ़

497235

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

4 टिप्पणियाँ "अजय कुमार तिवारी की कविता - जागो फिर एक बार"

  1. वाह बहुत ही सुन्दर
    रचा है आप ने

    उत्तर देंहटाएं
  2. शंकर लाल7:12 pm

    बहुत सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  3. जागकर एक नयी मीनार बनायेंगे
    ऐसी होगी उसकी दिवार की
    बेईमान व्यापारी न गिरा पाएंगे
    वादा है भारत जागेगा दोस्तों
    एक नया सवेरा आपकी गूँज लायेगा दोस्तों

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.