सोमवार, 15 अगस्त 2011

एस. के. पाण्डेय की स्वतंत्रता-दिवस विशेष बाल-कविता : आजादी

आजादी

(१)

भारत में आ अंग्रेजों ने अपना दाँव दिखाया था ।

धीरे-धीरे सारे भारत में अपना पैर जमाया था ।।

अंग्रेजों ने हम सब पे मनमाना राज चलाया था ।

‘लूट-फूट’ से अंग्रेजों ने भारत को गुलाम बनाया था ।।

 

(२)

अंग्रेजों के जुल्मों से फटती भारत की छाती थी ।

पराधीनता की बेड़ी से भारत माता अकुलाती थीं ।।

मुक्त करो इस बंधन से बेटों से कहती जाती थीं ।

बोस, भगत, आजाद आदि को नींद नहीं तब आती थी ।।

 

(३)

आजादी के लिए सभी को लड़नी पड़ी लड़ाई थी ।

बीर सपूतों ने खुश हो बाजी प्राणों की लगाई थी ।।

बहुत वर्षों के बाद सुनों वह पावन शुभ घड़ी आई थी ।

सरल नहीं थी राह, एक न बहुत बड़ी कठिनाई थी ।।

 

(४)

पंद्रह अगस्त सन सैतालिस को अपना भारत आजाद हुआ ।

विदेशी लुटेरों से समझो तबसे आबाद हुआ ।।

इससे हम पंद्रह अगस्त का राष्ट्रीय पर्व मनाते हैं ।

खुश होकर हम बड़ी शान से तिरंगा फहराते हैं ।।

 

(५)

आजादी तो मिली लेकिन हम सबसे कुछ छूट गया ।

बोस आदि के स्वर्णिम भारत का सपना मानो टूट गया ।।

गद्दारों ने वीर सपूतों के खून का घूँट पिया ।

भ्रष्टाचारी गद्दारों ने खुद ही देश को लूट लिया ।।

---------

डॉ. एस. के. पाण्डेय,

समशापुर(उ. प्र.) ।
URL: http://sites.google.com/site/skpvinyavali/

*********

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------