शुक्रवार, 2 सितंबर 2011

ज्योति चौहान की दो प्रेम कविताएँ

jyoti chauhan (Mobile)

चल रहे थे जब हम अनजान राहों पर

चल रहे थे जब हम अनजान राहों पर,

मिला था हमे कोई उन्ही राहों पर

भटक रहे थे जब हम उन राहों पर

मिला था वो तभी हमे उन राहों पर

खुश हुए थे हम बहुत यूं उसे मिलकर ,

 

वो राहें भी अपनी सी लगने लगी थी तब

कोई था ऐसा जिसकी बातों में हम खो जाते थे

डूब जाते थे हम उनकी बातों में कुछ उस तरह

कोई था जो न जाने क्यों इतना अपना सा लगता था ,

 

कोई था जो बहुत प्यारा लगता था

कोई है जिसे हम आज भी याद करते हैं

पर वो कोई ना जाने अब कहाँ है

पता नहीं कहा खो सा गया उन अनजान राहों पर

ना जाने वो अब कैसा होगा

फिर दुबारा क्यों ये राहें अनजान -सी लगने लगी

चल रहे थे हम अनजान राहों पर

 

-----.

वो कहते हैं

वो कहते हैं कि "भूल जाऊं मैं उन्हें ”,

पर कोई बताये तो हमें कि भला ये कैसे मुमकिन है?

जबकि बसा हो कोई हर सांस में

तो भला मैं सांस लेना छोड़ूं तो कैसे

उनसे दूर रहना सजा कट रही हो जैसे

“गुस्ताख़ी जो उनसे प्यार करने की की है हमने

सजा उसकी क्या इतनी बड़ी है- कि उम्र भर सहेंगे अब हम इसको

 

अब तो एहसास यही हर पल होता है -

"कि जैसे तरस रही हूँ मै - बस उनकी आवाज़ सुनने को ,

कि जैसे आँखे ये मेरी सिर्फ उनके दीदार का ही अरमान रखती हो ,

कि जैसे ये दिल ये मेरा उन्ही के लिए धड़कता है ,

कि जैसे में सिर्फ उनसे मिलने का ख्वाब देखती हूँ ,

एहसास जो जागे है, उन्हें भला में दफन करूं तो कैसे ”

 

वो तो जैसे मेरे मांजी बन गए हो अब तो

उन्हें मिलकर क्यों मै इतना बदल सी गयी,

क्यों अपनों में ही परायी सी लगती हूं

क्यों हर वक़्त खोयी-खोयी सी मै रहने लगी

क्यों महफिलों में होकर भी अकेली मैं हो गयी

क्यों भूल बेठी हूं मैं सब कुछ उनके नाम के सिवाय

क्यों याद कुछ भी अब तो रहता नहीं

क्यों खुली आँख से दिन में ख्वाब मै देखने लगी

क्यों सिर्फ उनके खयालों में रहने ही बस अच्छा मुझे लगने लगा

 

उन्हें भूलने कि कोशिश नही कि हमने -ऐसा तो नहीं

पर हर बार यही कोशिश क्यों नाकाम फिर होती है

क्यों उन्हें पाने की आरजू इस दिल में हर वक़्त समायी रहती है

जानकार भी सब कुछ क्यों अनजान मैं बनती हूं

क्यों मेरी जिंदगी उनके बिन एक सजा सी बन लगती है

पर उनसे कोई शिकवा भी तो नहीं हमको

क्यूंकि खुद हम ना रोक पाए खुद को- " इन एहसासों की गिरफ्त में जाने से "

वो कहते हैं कि "भूल जाऊं मैं उन्हें ”,

पर कोई बताये तो हमें कि भला ये कैसे मुमकिन है ?

---

ज्योति चौहान

बी-२७, सेक्टर-२२, नॉएडा-२०१३०१,

---

परिचय : ज्योति चौहान मूलत: उत्तर प्रदेश की हैं और दिल्ली विश्वविद्यालय से स्नातक हैं . साथ एम एस सी,बी एड,बी एल आई एस सी और पी जी डी सी ए करने के बाद एक वहुराष्ट्रीय कंपनी में कार्यरत हैं . नोएडा में अनुसंधान और विकास विभाग में एक वैज्ञानिक के रूप में काम कर रही हैं.

jyotipatent@gmail.com

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------