एस. के. पाण्डेय की बाल कविता - तोते की सीख

image

तोते की सीख

(१)

मैं नहीं जीव भक्षी हूँ ।

सीधा-साधा पक्षी हूँ ।।

केवल फल ही खाता हूँ ।

मैं तोता कहलाता हूँ ।।

(२)

पेड़ के ऊपर घर में रहता फल खाता जल पीता हूँ ।।

पालो तो पिंजड़े में भी भाई मैं बस जाता हूँ ।

मुझे पढ़ाओ तो पढ़ जाऊँ राम-राम मैं गाता हूँ ।

झूठ नहीं है भाई मेरे सच-सच मैं बतलाता हूँ ।।

(३)

प्यारी-प्यारी बोली मेरी प्यार से ही मैं रहता हूँ ।

किसी को मैं न कभी सताता न ही किसी से लड़ता हूँ ।।

एक दूजे को सभी सताते दुनिया से मैं डरता हूँ ।

पशु-पक्षी को खाने वाले दिन-दिन बढ़ते कहता हूँ ।।

(४)

करके देखो आप बिचार ।

सबको जीने का अधिकार ।।

ठीक नहीं है अत्याचार ।

करना सीखो सबसे प्यार ।।

डॉ. एस. के. पाण्डेय,

समशापुर (उ. प्र.) ।

http://www.sriramprabhukripa.blogspot.com/

*********

(चित्र - अमरेन्द्र, फतुहा, पटना की कलाकृति)

-----------

-----------

0 टिप्पणी "एस. के. पाण्डेय की बाल कविता - तोते की सीख"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.