गंगाप्रसाद शर्मा 'गुणशेखर' की कविता - मेरी प्यारी प्यारी नानी

Amrendra_14

मेरी प्यारी-प्यारी नानी 


मेरी मम्मी की, मम्मी की
है कुछ अजब कहानी
किसी बात पर चिढ़ जाएं ,
तो,याद करा दें नानी।
मेरी प्यारी-प्यारी नानी।


संकेतों से पास बुलाके
बिना बात की बात बना के
थपकी दे-दे रोज़ सुनाएं
लोरी,कथा,कहानी। 
मेरी प्यारी-प्यारी नानी।


उनको कोई बात  बताना
भैंस के आगे बीन बजाना 
किन्तु प्यार के दो बोलों से
हो जाएं पानी-पानी।
मेरी प्यारी-प्यारी नानी। 


कभी लगें कविता की धारा
लगतीं कभी कहानी। 
कभी-कभी चुटकुले सरीखी
फूटे मधुरिम बानी।
मेरी प्यारी-प्यारी नानी।


नानी के दो होंठ रसीले,
अमृत-से मधुमय औ गीले
बड़े प्यार से चुपके-चुपके
गालों पर लिख रहे कहानी।
मेरी प्यारी-प्यारी नानी।  

---

(चित्र - अमरेन्द्र. फतुहा, पटना की कलाकृति)

-----------

-----------

0 टिप्पणी "गंगाप्रसाद शर्मा 'गुणशेखर' की कविता - मेरी प्यारी प्यारी नानी"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.