शुक्रवार, 30 सितंबर 2011

ज्‍योति सिंह की कविता - तो क्या वो गलत है...

image

तो क्‍या वो गलत है

सुबह की किरणों के साथ

जब पिता अपने बच्‍चों को

सहारा देता है

तो क्‍या वो गलत है

 

अपने अस्‍तित्‍व को

बनाये रखने के लिए

अपने बच्‍चों का सहारा लेता है

तो क्‍या वो गलत है

 

हर राह में उसे

अच्‍छाई से वाकिफ कराता है

तो क्‍या वो गलत है

 

अपनी इज्‍जत को

बनाये रखने के लिए

अगर अपने बच्‍चों को

गलत करने से रोकता है

तो क्‍या वो गलत है

 

अपने घर में खुशियों का

माहौल बना रहने देना चाहता है

तो क्‍या वो गलत है

 

‘‘क्‍यों इस बात पर

उसे पुराने विचार

और रूढ़िवादी होने का

ताना सहना पड़ता है

क्‍यों उसके आखों के आँसू

दिखाई नहीं देते

जिसका सहारा लेकर

हमारे कदम जमीन पर चलना सीखे थे

 

क्‍यों अगर वो आज

अपनी इज्‍जत बचा के

रखना चाहते हैं तो

ये कहा जाता है कि इज्‍जत क्‍या होती है

 

क्‍यों हम ये भूल जाते हैं

कि जिसकी उंगलियों का

सहारा लेकर हमारे कदम

आगे बढ़े थे

क्‍या वो पिता गलत था

जिसने हमें सहारा दिया

 

क्‍या हम उन्‍हें सोचने पे

मजबूर कर दें कि

आपका सहारा देना

आपके लिए ही

एक दिन कलंक बन जायेगा''

--

ज्‍योति सिंह

पीएच.डी (हिन्‍दी)

वनस्‍थली विद्यापीठ

राजस्‍थान-304022

rajputsinghjyoti@gmail.com

10 blogger-facebook:

  1. बेनामी12:27 pm

    badi achchi kavita hai .aise vichar ghar ghar mein oopajein to ghar mein samridhdhi aur sansakar nivas kare

    उत्तर देंहटाएं
  2. shweta Dubey3:12 pm

    tumhari ye kavita mere liye bahut precious hai... mein apni dost ko kamayabi ki is nai raah par dekh kar bahut khush hu... apne is talent ko chhupne mat dena balki iske saath or aage or aage badna... me hamesha kahi na kahi tumhare saath hu... wish you all the very best.

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर ज्योति जी ,सुन्दर भाव ,सशक्त अभिव्यक्ति | बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  4. PRADEEP2:35 pm

    bahut sundar kavita....mai apke ujwal bhavisya ki kamna karta hun......

    उत्तर देंहटाएं
  5. jyoti singh7:52 pm

    thank you pradeep ji...

    उत्तर देंहटाएं
  6. jyoti singh7:54 pm

    thank you Ramesh uncle ji...

    उत्तर देंहटाएं
  7. बेनामी12:08 am

    bahut accha likhi thi sayad isko likhte samay hum sayad the

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------