रवि गोहदपुरी की कविता - शिक्षा

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

image

कविता....शिक्षा

जातिवाद की ये पाठशाला

खुले आम चलती हैं

समाज की गंदी धारा में

शिक्षा निरंतर बिकती है

 

खूब पैसा खर्च किया

तब पायी ये डिग्रियां

खून पसीना बहाया अपार

फिर भी ना समझे दुनिया

 

शिक्षा बिकती बाजारों में

छात्र बने इसके खरीददार

शिक्षक हैं इसको बेचने वाले

पर कौन करे शिक्षा पर प्रतिहार

 

शिक्षा की धांधली को

अब हम कैसे मिटायें

शिक्षा हमारा जीवन है

इसे कैसे आगे बढायें

---

रवि गोहदपुरी गोहद

--

(चित्र - अमरेन्द्र aryanartist@gmail.com , फतुहा पटना की कलाकृति)

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "रवि गोहदपुरी की कविता - शिक्षा"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.