मंगलवार, 27 सितंबर 2011

अभिनव प्रयास के आयोजन में तीसरी आँख साहित्य लेखन पुरस्कार/ सम्मान श्रृंखला हेतु प्रविष्टियाँ आमंत्रित

सम्मानित लेखकगण,

आप सभी के लाभार्थ एक विशेष विज्ञप्‍ति प्रस्तुत है। निम्नांकित पुरस्कार-योजनाओं में भाग लेना आपके लिए उचित होगा। विदित हो कि त्रैमासिक अभिनव प्रयास (अलीगढ, उप्र) में प्रकाशित देश का बहुचर्चित साहित्यिक स्तम्भ तीसरी आँख अपनी निष्‍पक्षता के लिए जाना जाता है। ये सभी वार्षिक पुरस्कार/सम्मान उसी ‘तीसरी आँख’ नामक स्तम्भ द्वारा समारोहपूर्वक प्रदान किये जाते हैं। आशा है, यह सूचना ‘नव्या’ के पाठकों/रचनाकारों के लिए उपयोगी होंगे।

धन्यवाद,

समाचार प्रस्तुतकर्ता:

अश्‍विनी कुमार रॉय ‘प्रखर’

.....................................................................................................

बहुचर्चित साहित्यिक स्तम्भ तीसरी आँख की पुरस्कार/सम्मान-श्रृंखला:

पुरस्कार क्रमांक-1: श्रीमती सरस्वती सिंह स्मृति: श्रेष्ठ सृजन सम्मान

(1100/-रुपये + प्रमाण-पत्र)

वैदिक क्रांति परिषद की संस्थापिका एवं ‘सरस्वती प्रकाशन’ की प्रेरणास्रोत श्रीमती सरस्वती सिंह जी की पावन स्मृति में निर्धारित उक्त सम्मान साहित्य की किसी भी विधा (गद्य-पद्य) के रचनाकार को देय होगा जिसके लिए प्रविष्‍टियाँ निम्नांकित संलग्नकों के साथ 30 जून 2012 तक सादर आमंत्रित हैं:

1. गद्य-पद्य विधा की तीन फुटकर रचनाएँ (प्रकाशित/अप्रकाशित का बंधन नहीं) मौलिकता प्रमाण-पत्र के साथ।

2. सचित्र परिचय + डाक टिकटयुक्त एक लिफ़ाफ़ा व पता लिखे दो पोस्टकार्ड।

विशेष: इस सम्मान हेतु श्रेष्‍ठ/स्तरीय प्रविष्‍टियों के अभाव की स्थिति में रचनाओं का चयन देशव्यापी पत्र-पत्रिकाओं, इंटरनेट, गद्य/पद्य संग्रहों में से किया जा सकता है।

प्रायोजक: परामर्शदाता: चयनकर्ता:

डॉ. आनन्दसुमन सिंह श्री अशोक अंजुम जितेन्द्र जौहर

(प्र. संपादक ‘सरस्वती सुमन) (संपादक ‘अभिनव प्रयास’) (स्तम्भकार: ‘तीसरी आँख’)

देहरादून, उत्तराखण्ड. अलीगढ़, उ.प्र. सोनभद्र, उप्र

.............................................................................................................

पुरस्कार क्रमांक-2: श्री केशरीलाल आर्य स्मृति गीत/दोहा सम्मान

(5100/-रुपये + प्रमाण-पत्र)

आर्य समाज-सेवक, स्वाभिमानी राष्‍ट्रभक्त एवं पूर्व स्वतंत्रता सेनानी श्री केशरीलाल आर्य जी की शैक्षिक जागरूकता का सहज अनुमान इस तथ्य से लगाया जा सकता है कि उन्होंने सन्‌ 1930 में स्नातक परीक्षा उत्तीर्ण कर ली थी। उनकी पावन स्मृति में स्थापित उपर्युक्त वार्षिक सम्मान वरिष्‍ठ गीतकार/दोहाकार डॉ. देवेन्द्र आर्य की पितृ-भक्ति का प्रतीक है। यह सम्मान राष्‍ट्रीय स्तर पर चुने गये किसी श्रेष्‍ठ कवि/कवयित्री (कोई आयु-बंधन नहीं) को गीत अथवा दोहा-सृजन के लिए देय होगा। इस सम्मान हेतु प्रविष्‍टियाँ निम्नांकित संलग्नकों के साथ 31 मार्च 2012 तक सादर आमंत्रित हैं:

1. मौलिक गीत-संग्रह अथवा दोहा-संग्रह (प्रकाशन-वर्ष का कोई बंधन नहीं) की दो प्रतियाँ।

2. सचित्र परिचय, प्रविष्‍टि-शुल्क रु. 200/- (मनीऑर्डर द्वारा; चेक अस्वीकार्य) + डाक टिकटयुक्त एक लिफ़ाफ़ा व पता लिखे दो पोस्टकार्ड।

प्रायोजक: परामर्शदाता: चयनकर्ता:

डॉ. देवेन्द्र आर्य डॉ. शिवओम अम्बर जितेन्द्र जौहर

(वरिष्‍ठ साहित्यकार) (वरिष्‍ठ साहित्यकार) (स्तम्भकार: ‘तीसरी आँख’)

ग़ाज़ियाबाद, उप्र. फ़र्रुख़ाबाद, उ.प्र. सोनभद्र, उ.प्र.

.............................................................................................................

पुरस्कार क्रमांक-3: श्रीमती रत्‍नादेवी स्मृति काव्य-सृजन सम्मान

(5001/- रुपये + प्रमाण-पत्र)

डिप्टी कलेक्टर के रूप में तीन दशक का बेदाग़ सेवाकाल बिताने वाले 74 वर्षीय श्री आमोद तिवारीजी शांत स्वभाव एवं वैदुष्य के धनी हैं। उनकी गहन साहित्य-निष्‍ठा का प्रतीक उपर्युक्त वार्षिक सम्मान उनकी स्वर्गीया धर्मपत्‍नी श्रीमती रत्‍नादेवी जी की पावन स्मृति में स्थापित किया गया है जो कि राष्‍ट्रीय स्तर पर चयनित किसी श्रेष्‍ठ कवि/कवयित्री (युवाओं को विशेष वरीयता, तथापि आयु बंधन-नहीं) को देय होगा। इस सम्मान हेतु प्रविष्‍टियाँ निम्नांकित संलग्नकों के साथ 31 मार्च 2012 तक सादर आमंत्रित हैं:

1. काव्य की किसी भी विधा (छांदस/अछांदस) का मौलिक प्रकाशित संग्रह (प्रकाशन-वर्ष का कोई बंधन नहीं) अथवा मौलिकता प्रमाण-पत्र के साथ अप्रकाशित कृति (पाण्डुलिपि) अथवा न्यूनतम 15 फुटकर कविताएँ।

2. सचित्र परिचय, प्रविष्‍टि-शुल्क रु. 200/- (मनीऑर्डर द्वारा; चेक अस्वीकार्य) + डाक टिकटयुक्त एक लिफ़ाफ़ा व पता लिखे दो पोस्टकार्ड।

प्रायोजक: परामर्शदाता: चयनकर्ता:

श्री आमोद तिवारी डॉ. रामसनेहीलाल शर्मा यायावर जितेन्द्र जौहर

(पूर्व डिप्‍टी कलेक्टर) (वरिष्‍ठ साहित्यकार) (स्तम्भकार: ‘तीसरी आँख’)

कटनी, म.प्र. फ़िरोज़ाबाद, उ.प्र. सोनभद्र, उ.प्र.

........................................................................................................................................................

विशेष ध्यानार्थ:

1.उपर्युक्त सभी सम्मान/पुरस्कार तीसरी आँख द्वारा आयोजित एक भव्य सम्मान-समारोह एवं गरिमापूर्ण अखिल भारतीय कवि-सम्मेलन में प्रदान किये जायेंगे जिनका विस्तृत समाचार विविध पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशनार्थ प्रेषित किया जायेगा। साथ ही, चयनित कवि/कवयित्री की चुनिन्दा रचनाओं को विभिन्न प्रतिष्‍ठित वेबसाइट्‍स/इंटरनेट पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित करने का प्रयास रहेगा।

2. चयन-प्रक्रिया अत्यन्त पारदर्शी एवं त्रिस्तरीय होगी जिसे परिणामों के साथ घोषित किया जायेगा। कृतियों के निष्पक्ष चयन का आधार-कथन (संक्षिप्‍त समीक्षा के साथ) ‘तीसरी आँख’ में प्रकाशित करने का प्रयास रहेगा।

3. प्रविष्‍टि-शुल्क का उद्‍देश्य व्यावसायिक नहीं है। इन सम्मानों/पुरस्कारों का मूल उद्‍देश्य श्रेष्‍ठ साहित्य-सृजन को प्रेरित करना है।

4. प्रशंसकों/शुभचिंतकों द्वारा भेजी गयी अपने प्रिय कवि/कवयित्री की प्रविष्‍टियाँ (वांछित संलग्नकों के साथ) स्वीकार्य हैं।

5. सभी सम्मानों के लिए अलग-अलग प्रविष्‍टियों की छूट उपलब्ध है; लिफ़ाफ़े पर सम्मान/पुरस्कार का नाम एवं क्रमांक स्पष्‍ट रूप से लिखें।

6. प्रायोजकों अथवा परामर्शदाताओं से चयन-प्रक्रिया अथवा निर्णायक-मण्डल आदि से संबंधित अनपेक्षित जानकारी माँगना अयोग्यता माना जायेगा। किसी भी समय नियम-परिवर्तन एवं अंतिम निर्णय-संबधी सर्वाधिकार उपर्युक्त नामांकित मण्डल के पास सुरक्षित हैं। निर्णय-संबधी कोई भी विवाद कदापि स्वीकार्य नहीं होगा।

7. समस्त प्रविष्‍टियाँ तीसरी आँख के निम्नांकित पते पर निर्धारित तिथि से पूर्व भेजें:

जितेन्द्र जौहर,

आई आर-13/6, रेणुसागर-231218,

सोनभद्र (उप्र). मोबा. 09450320472

ईमेल : jjauharpoet@gmail.com

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------