वन्‍दना शशांक मिश्र भारती की शिक्षक दिवस विशेष कविता - गुरु-शिष्य

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

हे सृष्‍टा! हम गुरु- शिष्‍य साथ हों

आशीवर्चन युक्‍त आपके हाथ हों

विश्‍व में किसी से न अब शोषित हों

प्रभु आपसे रक्षित और पोषित हों।

 

आपकी दया और अनुकम्‍पा से

हम गुरु शिष्‍य हर्षित गर्वित हों

विनम्र बनें बुद्धि- कौशल से युक्‍त हों

वसुधैव कुटुम्‍बकम्‌पन घोषित हों।

 

सर्वे भवन्‍तु सुखिंनः से मन्‍त्र हों

सर्वे निरोगः से चल रहे यन्‍त्र हों,

नीति श्रीकृष्‍ण की दया हो बुद्ध की

द्वेष कहीं न , गढें स्‍नेह सूत्र हों॥

 

दुबौला-रामेश्‍वर-262529 पिथौरागढ़ उत्‍तराखण्‍ड ईमेलः&shashank.misra73@rediffmail.com

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

3 टिप्पणियाँ "वन्‍दना शशांक मिश्र भारती की शिक्षक दिवस विशेष कविता - गुरु-शिष्य"

  1. बहुत सुन्दर आह्वान्।

    उत्तर देंहटाएं
  2. Bandhaii swikaren shashakt or sarthak rachna ke liye

    उत्तर देंहटाएं
  3. पहली कक्षा की शिक्षिका--
    माँ के श्रम सा श्रम वो करती |
    अवगुण मेट गुणों को भरती |
    टीचर का एहसान बहुत है --
    उनसे यह जिंदगी संवरती ||


    माँ का बच्चा हरदम अच्छा,
    झूठा बच्चा फिर भी सच्चा |
    ठोक-पीट कर या समझाकर-
    बना दे टीचर सच्चा-बच्चा ||


    लगा बाँधने अपना कच्छा
    कक्षा दो में पहुंचा बच्चा |
    शैतानी में पारन्गत हो
    टीचर को दे जाता गच्चा ||

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.