ऋता शेखर ‘मधु’ की एक हाइगा (चित्रमय कविता) - बापू के बन्दर

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

हाइगा (चित्रमय कविता) - बापू के बन्दर

Bapu ke bander (Custom)

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

2 टिप्पणियाँ "ऋता शेखर ‘मधु’ की एक हाइगा (चित्रमय कविता) - बापू के बन्दर"

  1. बहुत अच्छा हाइगा है ...बापू की बात को और भी अच्छे से याद दिलाता हुआ !
    बधाई !

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.