धनंजय कुमार उपाध्याय की कविता

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

image

दरिद्र

मंदिर की सीढ़ियों पर

वह पड़ा

हाथ में कटोरा

जस्‍ते का जड़ा

हर व्‍यक्‍ति पर

एक ही नजर

कोई दे दे चवन्‍नी या

रोटी पेट भर

आशा थी लम्‍बी

बात छोटी

उसमें भी सुननी पड़ती

खरी-खोटी

एक मानव

सभ्‍य समाज का

कटोरे में डालकर चवन्‍नी

खड़ा था

''बारह आने '' लौटाने की आस में

दरिद्र कौन

समक्ष में नही आया

थोड़ी देर बाद

सीढ़ियों पर से एक हाथ

हवा में लहराया

ले लो बाबूजी

ये पैसे ,

आप लोगों की ही

बदौलत !

हम पड़े हैं

जैसे - के- तैसे

---

धनंजय कुमार उपाध्‍याय

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

1 टिप्पणी "धनंजय कुमार उपाध्याय की कविता"

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.