हिमांशु कुमार चौहान 'हरित' की दो प्रेम कविताएँ

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

 

clip_image007

clip_image001

खता

दिल में जज्बात जागे ये खता ना थी ...
खता थी सरे बाजार नुमाइश कर बैठा ......
चाँद को देखना गुनाह ना था ......
गुनाह था उसे पाने की ख्वाहिश कर बैठा ......
किसी को प्यार करना अपराध ना था ....
अपराध था बदले में मोहब्बत की फरमाइश कर बैठा .........

आज जब बन बैठा सजाये मौत का हकदार ..
सोचता हूँ ,,,खता क्या थी ,,बस यही ना ................................................
के नफरत की दुनिया में प्यार की आजमाइश कर बैठा ......

clip_image002

तेरी निगाहों ने

कुछ मुझसे कहा है ..तेरी अनजान निगाहों ने .......clip_image003
तू टूटना चाहती है ...आके मेरी बाँहों में ..........clip_image005
मैंने भी तुझको माँगा ...हर एक दुआओं में ........clip_image003[1]
तेरा इश्क सबसे हँसी है ..मेरे हर एक गुनाहों में .....clip_image005[1]
सदियों से हरित बैठा ...बस .तेरी ही राहों में ..............clip_image003[2]
अब आ भी जा मेरी जाँ...तू मेरी पनाहों में ........clip_image005[2]

clip_image006

 

हिमांशु कुमार चौहान (हरित)

haritchauhan@gmail.com

Production Executive

IFB Automotive Pvt Ltd, Gurgaon

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "हिमांशु कुमार चौहान 'हरित' की दो प्रेम कविताएँ"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.