व्येंकटेश्वारानन्द मिश्र की कविता - ख्वाब

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

image

ख्वाब

अकसर सिहर जाते हैं नफरतों के साए में .

परख नहीं कर पाते अपने और  पराये में .

रंजिशों की तपन में जलते हैं साथ  मेरे , 

ये ख्वाब हैं मेरी जिन्दगी के..

 

दुनिया कसर नहीं छोड़ती अधूरा करने में.

ये  छोड़ देते  है  पसीना खुद  को पूरा करने में.

खुद के लिए दुनिया बदलते हैं साथ मेरे,

ये ख्वाब हैं मेरी जिन्दगी के..

 

वह टूटना नहीं जानते हैं तोड़ दिए जाते हैं

मंजिलों से कुछ दूर पहले छोड़ दिए जाते हैं

निकल कर आँखों से बहते हैं साथ मेरे ,

ये ख्वाब हैं मेरी जिन्दगी के ........

 

     ( व्येंकटेश्वारानन्द मिश्र  )

भरजुना, सतना  (मध्य प्रदेश )

---

(चित्र - अमरेन्द्र {aryanartist@gmail.com } , फतुहा, पटना की कलाकृति.)

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "व्येंकटेश्वारानन्द मिश्र की कविता - ख्वाब"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.