रविवार, 9 अक्तूबर 2011

पुस्तक समीक्षा- धरती और मनुष्य को सुन्दर बनाने का शिव संकल्प : पत्थरों के शहर में

 

समीक्षक- डॉ.वेद प्रकाश अमिताभ

डी-131, रमेश विहार, अलीगढ़-202001

समीक्ष्य कृति-

पत्थरों के शहर में ,

गजलकार-

नीरज शास्त्री

प्रकाशक- जवाहर पुस्तकालय मथुरा

पृष्ठ-अस्सी ,

मूल्य- एक सौ पचास रुपये मात्र

''अपनी कोशिश है कि यह सूरत बदलनी चाहिए'' दुष्यन्त कुमार की यह अवधारणा नीरज शास्त्री के गजल संग्रह 'पत्थरों के शहर में' की रचनाओं में ध्वनित है। रचनाकार का स्पष्ट उद्घोष है-'देश की हालत बदलना चाहता हूँ।'परिवेश की भयावहता, चतुर्दिक अवमूल्यन और अमानीयकरण की स्थितियाँ कवि के दृष्टिपथ में हैं, जो-'

'चारों आर छाया हुआ तम का कहर है।'

''''

'चौतरफ जब हवा मजहबी चलने लगी'

''''

'दौलत की चाह में सभी मतलबी हुए'

आदि अवतरणों में केन्द्रस्थ हैं। ऐसे में नीरजशास्त्री की एकमात्र आशा ईमानदार हाथों की कलम है, जिससे उनका निवेदन है-

'लेखनी ! तू कातिलों के नाम लिख दे।'

''''

'जालिमों के जुल्म का अंजाम लिख दे।'

भगीरथ,राधा, द्रोपदी आदि मिथकों की सहायता से यथार्थ उद्घाटन के साथ-साथ अपनी दृष्टि का संकेत देने में कई स्थलों पर नीरज शास्त्री सफल रहे हैं। उनका एक शेर है-

'इस जहाँ में प्रेम की गंगा बहाने को

क्या बन भगीरथ आज कोई आ सकेगा?'

नीरज शास्त्री की गजलों में वैचारिक ऊर्जा का प्रतिशत अधिक है, संवेदनात्मक आर्द्रता अपेक्षाकृत कम है। श्री मदन मोहन उपेन्द्र ने भूमिका में सही लिखा है कि कवि की वाणी में आक्रोश एवं विद्रोह के स्वर मुखर हैं परन्तु कुछ शेर बहुत मार्मिक बन पड़े हैं-

'बेटों के मुहताज हुए तो, हो गये जिन्दा लाश पिताजी।'

कैसा भी सन्दर्भ हो, उसे व्यक्त करने में सक्षम भाषा रचनाकार के पास है उसी के माध्यम से वह अपने संकल्प को दूसरों तक संप्रेषित कर सका है-

'इस धरा पर आज सुन्दर स्वर्ग लाने के लिए

संकल्प लो! ऐसे ही लड़ते रहेंगे आमरण।'

--

प्रेषित- डॉ.दिनेश पाठक 'शशि' मथुरा

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------