अखिलेष श्रीवास्‍तव “छत्तीसगढ़़िया” के चंद दोहे

image

( 1 )

भारत में लाखों असली रावण, पर मरता है नकली रावण।

लाखों रावण मुस्‍काते हैं, जब जलता है नकली रावण॥

( 2 )

दो अक्‍टूबर को न मिले, उस चीज का नाम बतायें।

जुगाड़ कहीं से हो जाए , तो गाँधी जयंती मनायें॥

( 3 )

संसद के रक्षक मारे गए, अपराध बड़ा नहीं कहलाता।

एक भी सांसद मर जाता, तो अफजल फाँसी चढ़ जाता।

( 4 )

पश्चिमी सभ्‍यता संस्‍कृति के प्रेमी , कलंकित न करो त्‍योहारों को।

गरबा को पब, डिस्‍को न समझो , बख्श दो पावन त्‍योहारों को॥

( 5 )

हर चैनल बार-बार दिखलाए, शोएब की बकवास।

और दो कौड़ी की किताब को , बना दिया है खास॥

----

संपर्क:

विवेकानंद मार्ग-3 धमतरी (छत्तीसगढ़)

--

(चित्र - साभार - आशीष श्रीवास्तव)

0 टिप्पणी "अखिलेष श्रीवास्‍तव “छत्तीसगढ़़िया” के चंद दोहे"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.