शुक्रवार, 14 अक्तूबर 2011

प्रभुदयाल श्रीवास्तव का बालगीत - पाकिट खर्च बढ़ा दो पापा

image

पाकिट खर्च बढ़ा दो मम्मी

पाकिट खर्च बढ़ा दो मम्मी

पाकिट खर्च बढ़ा दो पापा

एक रुपये में तो पापाजी

अब बाज़ार में कुछ न आता।

 

एक रुपये में तो मम्मीजी

चाकलेट तक न मिल पाती

इतने से थोड़े पैसे में

भुने चने में कैसे लाती।

 

ब्रेड मिल रही है पंद्रह में

और कुरकुरे दस में आते

एक रुपये की क्या कीमत है

पापाजी क्यों समझ न पाते।

 

पिज्जा है इतना मेंहगा कि

तीस रुपये में आ पाता है

एक रुपया रखकर पाकिट में

मेरा तन मन शर्माता है।

 

आलू चिप्स पाँच में आते

और बिस्कुट पेकिट दस में

अब तो ज्यादा चुप रह जाना

रहा नहीं मेरे बस में।

 

न अमरूद मिले इतने में

न ही जामुन मिल पाये

एक रुपये में प्रिय मम्मीजी

आप बता दो क्या लायें।

 

मुझको खाना आज जलेबी

मुझको खाना रसगुल्ला

इतने से पैसों में बोलो

क्या मिल पाये आज भला।

 

तुम्हीं बता दो अब मम्मीजी

कैसे पाकिट खर्च चले

समझा दो थोड़ा पापाको

उधर न मेरी दाल गले

कम से कम दस करवा दें

इतने से काम चला लेंगे

एक साल तक प्रिय मम्मीजी

कष्ट आपको न देंगे।

---

2 blogger-facebook:

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------