धनंजय कुमार उपाध्याय की कविता - आतंकवाद

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

image

आतंकवाद

ब्रिटिश शासन के अंत के बाद

स्वाधीन भारत में आतंकवाद

गहरे सदमे का यह प्रहार

नहीं झेल सकेगा अपना समाज

 

राजीव कांड में इसका हाथ

कश्मीर चाहता पृथक राष्ट्र

नागा और बोडो का विवाद

स्वाधीन भारत में आतंकवाद

 

नहीं रहेगी राजनीति में चहल-पहल

जब हो जायेगा इसका हल

करते है नेता आज-कल

नहीं निकलेगा इसका कोई हल

 

कश्मीर से कन्याकुमारी

गुजरात से लेकर अरुणाचल

चारों तरफ बस एक ही बात

स्वाधीन भारत में आतंकवाद

 

इस शासन पर है सबको घमंड

भारत का सबसे बड़ा है लोकतंत्र

जन्म से लेकर मृत्युपर्यंत

हम देख रहे है सिर्फ आतंक ही आतंक

--

===धनंजय कुमार उपाध्याय===

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "धनंजय कुमार उपाध्याय की कविता - आतंकवाद"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.