शुक्रवार, 21 अक्तूबर 2011

हिमकर श्याम की कविता - वह अभागन!

image

वह अभागन !

सरकारी अस्पताल के
बाहरी फुटपाथ पर
अजब था नजारा
चल रहा हो जैसे
किसी मदारी का
खेल-तमाशा
अर्धनग्न हालात में
तड़प रही थी
वह अभागन माँ
जन्मा था नवजात
वहां फुटपाथ पर
भिनभिना रही थीं
चारों ओर मक्खियाँ
तमाम मर्यादाओं की
उड़ रहीं थीं धज्जियाँ
मंडरा रहे थे आस-पास
लावारिश कुत्ते और
पत्थर दिल इंसान

मेला वहां जुट गया
कुछ पीछे छूट गया
खून से लथपथ
बेबस और स्तब्घ
वह अभागन माँ
भूल प्रसव की पीड़ा
जार-जार आंखों से
कोसती हालात को
निहारती नवजात को
कभी आँचल से छिपाती
aअपने तन-बदन को
कभी कांपते हथेलियों से
ढांपती नन्हीं जान को

सामने था भीड़ का
अमानवीय चेहरा
कोई अपलक घूरता
कोई मुंह फेर लेता 
सब कर चुके थे पार
शर्म-हया की दहलीज
गर्म हुआ चर्चा का बाजार
मानवता हुई शर्मसार
कैद हो रही थी कैमरे में
बेबसी की तस्वीर
हाय रे तकदीर
जिन्दगी का तमाशा
चलता रहता बार-बार
शहर के फुटपाथ पर
बनते हैं सैकड़ों लोग
तमाशे का मूकगवाह
शहर की चकाचौंध में
कहीं खो गए हमारे
सामाजिक सरोकार
मीडिया, एनजीओ, सरकार
कोई सुनता नहीं गुहार।

-----

हिमकर श्याम
द्वारा : एन. पी. श्रीवास्तव
५, टैगोर हिल रोड, मोराबादी,
रांची, ८ झारखंड।

---

(चित्र- अमरेन्द्र aryanartist@gmail.com  फतुहा, पटना  की कलाकृति)

2 blogger-facebook:

  1. अत्यंत दुखद एवं शर्मनाक! इस सार्थक प्रस्तुति के लिए आपको बधाई.

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------