मुरसलीन (साकी) की रचना

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

image

उसने मेरी वफा का ऐसा सिला दिया

चाहत को मेरी रूसवा सरे आम कर दिया

 

दामन के मेरे फूल कुछ ऐसे चुरा कर

आंखों में मेरी अश्‍कों के कांटों को भर दिया

 

चाहता मैं फिर भी था अपना बना लूं लेकिन

बदनामियों के डर से मेरा रूख पलट गया

 

पीता न था मैं आकर साकी तेरी गली में

देखा तेरा फरेब तो फिर मैं बदल गया

 

हर बार यही सोच कर पीता हूं छोड दूं

हर बार मैं पीता रहा और शराबी बन गया

--

मुरसलीन (साकी)

जिला लखीमपुर खीरी (यू.पी.)

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "मुरसलीन (साकी) की रचना"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.