प्रभुदयाल श्रीवास्तव का बाल गीत - मेरे दादा जी

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

dadaji (Mobile)

मेरे दादाजी

द्दढ़ निश्चय जीवट के हैं

दादाजी अढ़सठ के हैं।

 

रोज नियम से काम करें

उनके काम विकट के हैं।

 

नहीं किसी से हैं डरते

रहते वे बेखटके हैं।

 

क्रिकेट में बच्चों के संग

लेते केच झपटके हैं।

 

लोटा लेकर कहते हैं

आते अभी निपट के हैं।

 

हर दिन पैदल चलते हैं

बिना किसी खटपट के हैं।

 

ध्यान लगाकर कहते हैं

ईश्वर बहुत निकट के हैं।

 

कोई जब दर पर आता

मिलते गले लिपट के हैं।

 

किसी काम में देर नहीं

तुरत फुरत चटपट के हैं।

 

द्दढ़ निश्चय जीवट के हैं

दादाजी अढ़सठ के हैं।।

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "प्रभुदयाल श्रीवास्तव का बाल गीत - मेरे दादा जी"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.