आर पी साही की कविता - गरीबी की लछमन रेखा...

image

पीढ़ी दर पीढ़ी, से एक रेखा है,

जो  लछमन ने सत्ता और सामाजिक  धनुष से खींची,

दादा , दादी ,बाबू, माई सबको ललचाते ,

पार जाने के ललक को भी मैंने देखा है..

 

सर पर बोझ लिए, कातर आँखों से ,

रेखा से घिरे हम देखा करते हैं..

 

अरे, राम ,लखन

तुम तो सबरी के बेर चख के भी महान बनते हो,

पर सबरी बेर कैसे बीन पायेगी,

उस जंगल के पेड़ को ही हड़प लेते हो,

---

(चित्र - अमरेन्द्र aryanartist@gmail.com की कलाकृति)

-----------

-----------

0 टिप्पणी "आर पी साही की कविता - गरीबी की लछमन रेखा..."

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.