मीनाक्षी भालेराव की कविताएँ

image

शून्य   


 
हृदय की शून्यता को 
अंकों का आलिंगन करने दो
भर लो चितवन में तरंगें
लहरों सा उन्मुक्त मचलने दो
क्यों विरह में तपती हो
खुद को खुद से मिलने दो
अपरिचित हो जिस स्पर्श से
उस का सम्मोहन भरने दो
आज बहने दौ आँसुओं को
धुल जाने दो काजल की कालिमा
सूनी सूनी निगहों में
उम्मीद का दीप जलने दो
आने दो मिलन की बैला
उन्माद की लहरें बहने दो
 
  
   
   

नर  नारी    


 
कौन सर्वश्रेष्ठ है 
कौन जान पाया है
अनुसंधान कहाँ हो पाया है
एक के पास अनुराग
एक के पास त्याग है
एक के पास मादक चितवन
एक के पास पुरूषार्थ है
एक के पास आमंत्रण
एक के पास समर्पण है
एक के पास मधु सी मिठास है
एक के पास सुनहरा प्रभात है
जब दोनों का मिलन होता है
तभी सृष्टि का निर्माण है
प्रभात का सूर्य तभी होता है
जब रात का अंधकार है
ऋतुओं का आगमन तभी सम्भव है
जब वर्ष का आगाज होता है
दोनों एक दूजे के बिना अधूरे हैं 
तो दोनों मिलकर ही पूर्ण होते हैं
 
 

विस्मित   


फूलों पर गिरती बून्दें
विस्मित हो उठती हैं
अंजानी गंध से जब वो
आत्मसात होती हैं 
और आ मिलती हैं धरती से
मुग्ध वैसे ही रश्मी होती है
जब सितारों जडी चुनरी
और अंधकार से मिलती है
बून्दों की सखी वर्षा जब
अम्बर से धरती पर आती है
इंद्रधनुषी मुकुट पहनकर
कैसी कैसी इतराती है
आलिंगन हवाएं जैसे
पर्वत को करती हैं
अस्तित्व खोकर अपना
नया इतिहास रचती है
बेसुध हो लहरें सागर से
मिलने को आतुर हो जाती है
रहस्यों से जाने कितने
पर्दे जब वो उठाती है
यही मिलन का उन्माद ही तो
देता है सृष्टि को आकार है
 

आधार


मैं लघु आकार हूं
तुम मेरा आधार
तुम में होकर लीन मैं
बनना चाहती हूं सम्पूर्ण
कर समर्पण अहं को 
स्वीकार है तुम्हारा आलिंगन 
--

-----------

-----------

2 टिप्पणियाँ "मीनाक्षी भालेराव की कविताएँ"

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.