सोमवार, 10 अक्तूबर 2011

विजय वर्मा की ग़ज़ल - रंग-ए-जिंदगानी

रंग-ए-जिंदगानी.

रंग-ए-जिंदगानी यूँ अनमना क्यूँ है ?

आखिर तू मेरी महफ़िल से फ़ना क्यूँ है?

 

माना विपथगमन की होगी कोई वाइस

मत पूछ दामन अश्कों से सना क्यूँ है?

 

गुरूर के पेड़ों पर कभी फल नहीं लगते.

वो शख्स आखिर इस कदर तना क्यूँ है?

 

दुआ-सलाम ही तो की है,रुसवा नहीं की

तेरे शहर में खैरियत पूछना मना क्यूँ है?

 

उजाला तो हो,बर्क मेरे नशेमन पे गिरे

सब परेशां है,अँधेरा इतना घना क्यूँ है?

 

दर्द अगर तेरा हो जाए तेज से तेजतर

बाँट लो आकर, ये 'विजय' बना क्यूँ है?

--

v k verma,sr.chemist,D.V.C.,BTPS

BOKARO THERMAL,BOKARO

vijayvermavijay560@gmail.com

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------