एस. के. पाण्डेय की बाल कविता - दीपावली आई

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

दीपावली आई

(१)

आई-आई दीपावली आई ।

अपने संग ये खुशियाँ लाई ।।

घर-घर की हो गई सफाई ।

अच्छी-अच्छी बनी मिठाई ।।

(२)

बच्चे, बूढ़े लोग लुगाई ।

सब खाते अतिसय हर्षाई ।।

कहते आई दीपावली आई ।

घर-घर में आ धूम मचाई ।।

(३)

घर-घर में नाना पकवान ।

चाहे निर्धन या धनवान ।।

श्री, गणपति पूजे भगवान ।

दीजे प्रभु सबको धन धान ।।

(४)

गली-मोहल्ले घर बाजार ।

दुल्हन ज्यों सज सब तैयार ।।

सो खर्चे कुछ कई हजार ।

यथाशक्ति अच्छा व्यापार ।।

आया ही ऐसा त्योहार ।

खुशियों की बह चली बयार ।।

(५)

हाथी, घोड़ा घर में आये ।

बच्चे देख-देख सुख पाये ।।

जेब भरे सब दोस्त दिखाये ।

आओ हम सब मिलकर खायें ।।

घर-घर में हम दीप जलायें ।

कही अँधेरा रह न जाये ।।

(६)

बच्चों के मन सुख न समाये ।

कई पटाखे सभी बजाये ।।

मम्मी बार-बार समझायें ।

देखो कोई जल न जाये ।

(७)

मम्मी से रामू बतलाए ।

एक बार ही साल में आए ।।

हम सबको खुशियाँ दे जाए ।

मन कहता हम रोज मनाएं ।।

---------

डॉ. एस. के. पाण्डेय

समशापुर (उ.प्र.) ।

URL: https://sites.google.com/site/skpvinyavali/

BLOG: http://www.sriramprabhukripa.blogspot.com/

*********

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "एस. के. पाण्डेय की बाल कविता - दीपावली आई"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.