शुक्रवार, 11 नवंबर 2011

हिमकर श्याम की कविता - विवशता

विवशता

एक के बाद एक

फंसते जा रहे हैं हम

समस्याओं के

दुर्भेद चक्रव्यूह में।

 

चाहते हैं

चक्रव्यूह से बाहर निकल

मुक्त हो जाएं हम भी।

 

रोज प्रत्यंचा चढ़ जाती है

लक्ष्य वेधन के लिए

लेकिन असमर्थताएं

परास्त कर जाती हैं

हर तरफ से।

 

शायद-

हो गये हैं हम भी

अभिमन्यु की तरह।

 

काश!

इससे निकलने का

भेद भी

बतला ही दिया होता

अर्जुन।

--

हिमकर श्याम

द्वारा: एन. पी. श्रीवास्तव

5, टैगोर हिल रोड, मोराबादी,

रांची-8, झारखंड.

1 blogger-facebook:

  1. anup kumar9:51 am

    sach aaj har aadmi kisi na kisi chakrvyuh mein phansa hua hai. ati sundar.

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------