शनिवार, 12 नवंबर 2011

मीनाक्षी भालेराव की कविताएँ

image

ख्वाहिशें

हजारों ख्वाहिशें लेकर चल मुसाफिर  दिल में

न जानें किस मोड़ पर मुकद्दर मेहरबान हो जाये

जो तुझको इल्म ही नहीं अपनी मंजिल का

तो खुदा भी कुछ ना दे पायेगा तुझे राही

जिस तरह ख़ाली हाथ तू आया था मुसाफिर

उसी तरह ख़ाली हाथ ही तू चला जाएगा

इतना भी बेमकसद जिन्दगी ना जी तू

खुदा तुझे देना चाहे और तू हाथ भी ना उठा पाए

कर अपनी चाहत को इतना बुलंद तू के  

खुदा तेरी झोली उम्मीद से ज्यादा भर दे

 

उजड़ा वतन

शाखों से टूट गये

पत्ते चनार के ये

कैसा तूफान था

बिया-बां हो गया

अचानक चमन

कल जहाँ आबादी

खिलखिलाती थी

आज वीराने मायूसी से

आंसू बहा रहें हैं

ये कैसा सवेरा है

जो रात सा लग रहा है

शायद आसमान भी

जमी के घायल तन

को ना देख सका हो

कुछ तो करें जतन

आओ के धुंआ-धुंआ

है हमारा चमन

यूँ ही गर उजड़ता रहा

हमारा ये वतन

ये फिर ना कहलायेगा

सारे जहाँ से ऊंचा

हिन्दुस्तान हमारा

 

माँ

माँ तुम कितनी अपनी होती है

सारे रिश्तों से भी बड़ी होती हो

तेरे आँचल की छांव में हम

कितने महफूज और खुश रहते हैं

तुझ बिन हर दिन सुना और

रात अँधेरी-अँधेरी  होती है

तू ही रौशनी से नहलाती है

तू ही हम को राह दिखाती है

तू ही मंजिल पर पहुँचाती है

तेरी ममता से जो वंचित

रहते हैं जो हे माँ उन बच्चों को

कैसी पीड़ा होती होगी

--

कसूर

क्या कसूर है मेरा

जो तुम खफा-खफा से रहते हो

मेरी जुल्फों को जो हवा छू लेती है

मेरे आंचल को घटायें उड़ाती है

बूंदें ये जो बारिश की है

जिस्म मेरा चूम लेती है

तो नजारों की नजरों में भी

सरूर चढ़ जाता है

क्या कसूर है मेरा

हर नजर जो उठती है मुझ पर

मेहरबान हो कर उठती है

मेरी हंसी पर कायनात

भी रश्क करती है

क्या कसूर है मेरा

घर से जब निकली हूँ

न जाने कितनों का दम निकलता है

आहें भर-भर कर

छूने की हसरत करते हैं

क्या कसूर है मेरा जो

तुम खफा-खफा से रहते हो

 

मेहँदी

मेहँदी  मेरे हाथ रची थी

जैसे पिया की मुस्कान बसी थी

सपना मेरा एक सजा था

नैंनों में कजरा लगा था

द्वार पर ध्यान बंटा था

मन में मेरे अरमान जगा था

मेहँदी ------------------------

 

सिरहाने बैठ कर कोई

जैसे सहलाने लगा था

तनमन में सिहरन सी उठी

वो आये ऐसा लगा था

मेहँदी-------------------------

 

बुझ गया दिया और

धुंआ सा उठने लगा था

क्या बात थी उस आलम में

तनमन मेरा महक उठा था

--

 

दीदार

तुम्हारे दीदार से

सहारा मिल ही जायेगा

मेरी बाहें थामे चलो

किनारा मिल ही जायेगा

यों ना उदास रहो तुम

जमाने की बेरुखी से

तुम्हारी हंसी से

जमाना बदल ही जायेगा

निकल आओ अंधेरों से

उजाला राह तकता है

नया सवेरा आएगा

गमों की रात ढलती जाएगी

1 blogger-facebook:

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------