मुरसलीन (साकी) की ग़ज़ल

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

 


ऐ जिन्‍दगी इससे बुरा क्‍या हाल होना है।
जिसे पाया है मैंने अब उसे इक रोज खोना है ।


ये माना हंस रहा हूं मैं,मगर दिल में तड़प सी है
कई नासूर जिन्‍दा हैं, मगर फिर जख्‍म खाना है।


इसी रंगीन दुनिया में कई बेनूर बस्‍ती हैं।
उसे मिलती भी इज्‍जत है जिसे सूली चढ़ाना है।


ऐ मुसाफिर रस्‍सियां फिर बांध ले अपनी
इन्‍हीं कमजोर लहरों में अभी तूफान आना है।


वह सुन ले जो समझ बैठे हैं पैसों को खुदा अपना
सिकन्‍दर की तरह उनकेा भी खाली हाथ जाना है।
 
मुरसलीन (साकी)
जिला लखीमपुर खीरी यू.पी.

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

1 टिप्पणी "मुरसलीन (साकी) की ग़ज़ल"

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.