देवेन्द्र पाठक 'महरूम' की ग़ज़ल

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

ग़ज़ल/                    

(ब्रितानी नववर्ष 2011के आगमन पर) 

 

अश्क-ए-ख़ून बहाकर  ये गुज़र जाएगा।      
वो जो आएगा वो भी अश्के ख़ूँ बहाएगा॥ 

 
अब कहीँ फेरो-बदल के कोई आसार नहीँ; 
जलेगा रोम नीरो बाँसुरी बजाएगा॥     


तरकशो-तीर वही होँगे पर शिकारी नए;
अदमरोँ शिकार फिर से किया जाएगा॥     

 
हम जिसे कर रहे हैँ आज अलविदा वो ही; 
फिर नए ज़ुल्म नई शक्ल मेँ वो ढाएगा॥

 
हादसा होगा नए नाम से कोई 'महरूम';    
जख़्म पपड़ाया हुआ फिर हरा हो जाएगा॥   

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "देवेन्द्र पाठक 'महरूम' की ग़ज़ल"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.