बुधवार, 16 नवंबर 2011

जयप्रकाश मिश्र की कविता - स्विस बैंक में जमा मेरे हिस्से की जमीन


कविता



मैं जिस जमीन पर खड़ा हूँ
वह मेरी नहीं है
मेरे हिस्से है वही फुटपाथ
और चलती -फिरती सड़क

मेरे भीतर भी कुलबुलाता है झरनों का पानी
खिलखिलाते हैं हिमालय के हरे -भरे बुग्याल
कब से बसाए हूँ
हैंगिंग गार्डेन और एफिल टॉवर का सपना
पर बहुत दूर लगता है ताज महल ही

देख पाऊंगा क्या कश्मीर या रानीखेत
पक्षी होता तो जरूरी नहीं होता वीजा -पासपोर्ट
घूम ही आता देने पसार

सवाल करता एक सड़क का वाशिंदा -
पर मिलेगी कैसे ?
मेरे हिस्से की जमीन तो
स्विस बैंकों में जमा है .

                        जयप्रकाश मिश्र
ग्राम -बिजौरी ,पोस्ट-गुठिना जिला-फर्रुखाबाद -२०५३०२

---
(ऊपर का चित्र कु. निष्ठा राय - कक्षा 4 थी की बनाई हुई दियासलाई की कलाक़ति)

1 blogger-facebook:

  1. बेनामी7:57 am

    ऐसा सत्य जो कुछ वर्षों बाद सपनों पर भी पाबन्दी लगा देता है |

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

और दिलचस्प, मनोरंजक रचनाएँ पढ़ें-

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------