प्रभुदयाल श्रीवास्तव की बाल कविता - रचनाएँ मन को पुलकित करतीं...

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

जीवन के सच्चे संघर्षों ने नवगीत लिखा
मैंने तो अब गीत गज़ल को मन का मीत कहा|

विधा व्यंग्य बाणों वाली मन को हर्षाती है
दुनिया देश समाज घरों की व्यथा सुनाती है|

गद्य काव्य में तो जैसे सच का झरना बहता
प्रगतिवाद के नव प्रयोग का पथ मिलता दिखता|

बात उपन्यासों की करना अब बेमानी है
जैसे किसी नदी सूखी में बहता पानी है|    

लोगों को अब लघु कथायें बहुत सुहाती हैं
थोड़े से ही में सब का सच वे कह जाती हैं|

समयाभाव कहां अब पुस्तक पढ़ने देता है
जीवन के अनुभव से सच को गढ़ने देता है|

टुकड़न कतरन पत्र डायरियां सभी छलावा है
बड़े जनों के बड़े चोचले एक दिखावा है|

आज क्षणों में क्षणिकायें सब कुछ कह जातीं हैं
व्यथा व्यवस्थाओं की सबको बतला जातीं हैं|

बाल कहानी कवितायें मन को पुलकित करतीं
दुख तनाव और दर्द सभी का पल भर में हरतीं|

--- विज्ञापन ---

----------- *** -----------

_____________________________________

0 टिप्पणी "प्रभुदयाल श्रीवास्तव की बाल कविता - रचनाएँ मन को पुलकित करतीं..."

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.