प्रभुदयाल श्रीवास्तव की हज़ल (हास्य ग़ज़ल) : लिख देतीं हैं अपने सिर के हाल कंघियों में

लिख देतीं हैं अपने सिर के हाल कंघियों में

खींच खींच कर भर देतीं हैं बाल कंघियों में

धर देतीं हैं सिर का गंदा माल कंघियों में।

बड़े बड़े बालों वाले करते कंघी ऐसी
हर दिन आते रहते हैं भूचाल कंघियों में।

सुबह शाम दोपहर जब भी देखो मिलते अक्सर
बालों के गुच्छों से लथपथ जाल कंघियों मे।

लगता है कंघी ही इनके जीवन की पुस्तक
लिख देतीं हैं अपने सिर के हाल कंघियों।

छोटे छोटे जीव जंतु भी सिर में पल जाते
अक्सर मिलते रहते इनके लाल कंघियों में।

कैसे यह बर्दाश्त करें और कब तक सहन करें
रोज रोज मिलते जी के जंजाल कंघियों में।

हे ईश्वर ऐसा वर दे और ऐसा कुछ कर दे
कभी न आयें बालों के कंकाल कंघियों में।

-----------

-----------

2 टिप्पणियाँ "प्रभुदयाल श्रीवास्तव की हज़ल (हास्य ग़ज़ल) : लिख देतीं हैं अपने सिर के हाल कंघियों में"

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.