मंगलवार, 29 नवंबर 2011

शशांक मिश्र भारती की बाल कविता - कर्म का फल

कर्म का पथ

सूरज पूरब में उगकर

पश्‍चिम में होता अस्‍त है,

 

सुख-दुख का अटल नियम,

इससे ही होता सत्‍य है,

 

सूर्योदय ही भाग्‍योदय है

भाग्‍योदय ही सूर्योदय है,

 

जो भाग्‍य के सहारे जीते हैं

जीवन में कुछ न पाते हैं,

 

तरह-तरह की इच्‍छायें

मन में रखे रह जाते हैं,

 

इसीलिए हे प्‍यारे बच्‍चों

मन में दृढ़ विश्‍वास जगाओ,

 

छोड़ सभी निराशाओं को

कर्मवीरों सा पथ अपनाओ।

 

सम्‍पर्कः-हिन्‍दी सदन बड़ागांव शाहजहांपुर 242401 उप्र

3 blogger-facebook:

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------