मंगलवार, 22 नवंबर 2011

मालिनी गौतम की कविता - अहसास

अहसास

आओ

कुछ बातें करें

कुछ तुम अपनी कहो

कुछ मेरी सुनो,

मैं ?

मेरे पास क्या है कहने को ?

कुछ उदास लमहे

कुछ भूली-बिसरी यादें

कुछ खारे आँसू

कुछ बहकी बातें

कुछ...कुछ....कुछ ।

अब तुम अपनी कहो!

पर तुम?

तुम तो मेरा ही एक हिस्सा हो,

तुम मुझसे अलग कहाँ?

तो ये ‘हम’ कैसे बन गया ‘मै’ .... ‘तुम’

ये अनजानापन

कैसे पसर गया हमारे बीच?

हमारी नज़दीकियों को कौन निगल गया?

क्यों न समझ सके तुम

मेरे उदास मन को

मेरी उदासी में ढूँढ लीं तुमने खुशियाँ?

प्रीत का हर पल था मेरे लिए

एक इबादत !

तुम आगे बढ़ते गये

उसे अपने पैरों तले रौंद

मेरी आँखों से बहते रहे आँसूँ

पर अफ़सोस

उनकी खाराश तुम्हें नमकीन

न बना सकी !

मैं सर्द आहें भरती रही

पर तुम्हारे कानों में तो गूँज रहा था

कोई और संगीत

बरसती बारिश में

चमकती बिजली में

कड़कती ठंड में

धधकती अग्नि में

मैं कर रही थी तुम्हारा इंतज़ार

पर तुम पहुँच चुके थे

दूर, सुदूर, योजनों दूर

मेरी आस्था और विश्वास को खंडित कर !

मैं अपने हृदय मंच पर

कर रही थी तुम से संवाद

और तुम विश्व मंच पर

बोल रहे थे शेक्सपीयर के डायलॉग --

‘ये जीवन है एक रंगमंच

और हम सब इसकी कठपुतलियाँ हैं’

शायद मुझे ही समझना होगा

कि तुम हो हवा का एक झोंका

और हवा को नहीं किया जाता

मुट्ठी में क़ैद

उसे तो बस साँसों मे भर कर

जीया जाता है!

तो, तुम हो या ना हो

पर, बने रहोगे कारण

सदैव मेरे जीने का !

8 blogger-facebook:

  1. दर्द के अहसास से घिरी ह्रदय से कही गयी बात है ये कविता बेहतरीन बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. bhaut acchi lagi ehsaas ki lazwaab rachna....

    उत्तर देंहटाएं
  3. तुम हो हवा का एक झोंका

    और हवा को नहीं किया जाता

    मुट्ठी में क़ैद

    उसे तो बस साँसों मे भर कर

    जीया जाता है!

    तो, तुम हो या ना हो

    पर, बने रहोगे कारण

    सदैव मेरे जीने का !
    bahut khub.....jabardast likha hai

    उत्तर देंहटाएं
  4. maalineeji bahut sundar kavitaa hai ! kalpanaaon ki uthati huee jvaala, jo dhadhakatee rahi, dil ko nastar bankar choo gayee.

    उत्तर देंहटाएं
  5. bahut badiya kavita ydie ise aaj se kuchhek dashak pahale padta to ise usi samay shresht
    VIRAH giton ki shrankhala me suchi baddh pata
    SADHUWAD

    उत्तर देंहटाएं
  6. कुश्वंक जी,सागर जी,हरेन्द्र सिंह रावत जी एवं रामू जी .....आप सभी का बहुत-बहुत धन्यवाद अपनी प्रतिक्रियाओं से अवगत कराने के लिये

    उत्तर देंहटाएं
  7. आज 21/01/2013 को आपकी यह पोस्ट (दीप्ति शर्मा जी की प्रस्तुति मे ) http://nayi-purani-halchal.blogspot.com पर पर लिंक की गयी हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------