गुरुवार, 10 नवंबर 2011

योगेन्‍द्र वर्मा ‘व्‍योम' की लघुकथा - कीटाणु

कीटाणु

image

लगभग 10-11 साल उम्र रही होगी उस लड़के की । पिछले तीन दिन से भूखा था वह। प्‍लेटफार्म पर खड़ी ट्रेन के स्‍लीपर कोच में वह चढ़ा और शर्ट उतारकर उससे फर्श साफ करता हुआ आगे बढ़ता और बर्थ पर बैठे लोगों से इशारे से अपनी भूख को बयानकर कुछ माँग रहा था । कभी कोई उसे रुपया-दो रुपया दे देता या कभी कोई ‘आगे बढ़' कह देता। ट्रेन के उसी स्‍लीपर कोच में एक परिवार भी सफ़र कर रहा था, उस परिवार में एक छोटा बच्‍चा अपने पापा की गोद में बैठा चिप्‍स की थैली में से एक-एक चिप्‍स निकालकर खा रहा था। लड़के ने इशारे से अपनी भूख का इजहार करते हुए उस परिवार से भी कुछ माँगने के लिए हाथ फैलाया। परिवार ने ‘आगे बढ़' कहकर उसे टरका दिया।

तभी अचानक चिप्‍स की थैली बच्‍चे के हाथ से छूटकर नीचे गिर गई और सारे चिप्‍स बिखर गए। बच्‍चा जब उन चिप्‍स को फर्श से उठाने लगा तो उसके पापा ने उसे समझाते हुए कहा - ‘बेटा ! ज़मीन पर गिरी हुई चीज़ उठाकर नहीं खाते, कीटाणु लग जाते हैं और फिर कीटाणु पेट में पहुँचकर बीमारी पैदा करते हैं।' वह लड़का भी वहीं पास वाली बर्थ पर बैठे यात्री से माँग रहा था, अचानक वह पलटा और फर्श पर पड़े चिप्‍स के एक-एक टुकड़े को उठाकर खाने लगा। फर्श पर गिरे चिप्‍स के सारे टुकड़े खाकर वह फिर आगे बढ़ गया, अपनी शर्ट से फर्श साफ करते हुए कुछ माँगने के लिए। बच्‍चा सोच रहा था कि चिप्‍स के टुकड़ों पर लगे कीटाणु क्‍या उस लड़के के पेट में पहुँचकर बीमारी पैदा नहीं करेंगे।

- योगेन्‍द्र वर्मा ‘व्‍योम'

AL-49, सचिन स्‍वीट्‌स के पीछे,

दीनदयाल नगर फेज़-प्रथम्,

काँठ रोड, मुरादाबाद (उ0प्र0)

---

(चित्र - अमरेन्द्र aryanartist@gmail.com  - फतुहा, पटना की कलाकृति)

2 blogger-facebook:

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------