मंगलवार, 15 नवंबर 2011

दिनेश पाठक'शशि की रपट : मथुरा को नमन जहां सूरदास ने बाल गीतों की रचना की।

 

प्रख्यात बाल साहित्यकार श्री गोविन्द शर्मा एवं डॉ.नागेश पाण्डेय'संजय' का सम्मान एवं तीन पुस्तकों का लोकार्पण।


मथुरा;३१.१०.११ मथुरा एक ऐसी पावन भूमि है जहॉं सूरदास जी द्वारा सर्वप्रथम बाल गीतों की रचना की गई। इसलिए मैं इस नगरी को नमन करता हूं। उक्त विचार शाहजहॉंपुर से पधारे प्रसिध्द बाल साहित्यकार डॉ.नागेश पाण्डेय 'संजय'ने पं.हरप्रसाद पाठक-स्मृति बाल साहित्य पुरस्कार समिति,२८ सारंग विहार,मथुरा की ओर से अपने सम्मान प्राप्ति के दौरान व्यक्त किए।


    कार्यक्रम के अध्यक्ष प्रसिध्द शिक्षाद्शास्त्री डॉ.सन्तशरण शर्मा ने दीप प्रज्ज्वलन कर एवं दिल्ली से पधारी मानसी प्रकाशन की मालिक श्रीमती बेला गुप्ता ने मॉं सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण कर कार्यक्रम का उद्‌घाटन किया।


पं.हरप्रसाद पाठक के चित्र पर माल्यार्पण कार्यक्रम के मुखय अतिथि ७९ वर्पीय डॉ.राष्ट्रबन्धु व श्री चन्द्रपाल शर्मा रसिक हाथरसी ने किया तदोपरान्त श्री रविन्द्रपालसिंह'रसिक' ने मॉं सरस्वती की वन्दना की फिर मंचासीन अतिथियों को माल्यार्पण कर स्वागत किया गया।अतिथियों का स्वागत एवं संस्था का परिचय संस्था सचिव डॉ.दिनेश पाठक'शशि' ने दिया।


    कार्यक्रम के प्रथम सत्र में पं.हरप्रसाद पाठक-स्मृति बाल साहित्य पुरस्कार समिति की ओर से संगरिया राजस्थान के सुप्रसिध्द साहित्यकार श्री गोविन्द शर्मा एवं शाहजहॉंपुर उ.प्र. के डॉ.नागेश पाण्डेय'संजय'का उनके बाल कहानी संग्रह-'दोस्ती का रंग' एवं बाल काव्य संग्रह-'अपलम चपलम' के लिए सम्मानित किया गया।

    श्री गोविन्द शर्मा का परिचय, साहित्यकार श्री मदन मोहन शर्मा अरविन्द ने तथा डॉ.नागेश पाण्डेय'संजय'का परिचय सम्यक्‌ के सम्पादक मथुरा के वरिप्ठ साहित्यकार श्री मदन मोहन उपेन्द्र ने दिया। बाल कहानी संग्रह-'दोस्ती का रंग'का परिचय साहित्यकार श्री सन्तोप कुमार सिंह ने एवं बाल काव्य संग्रह-'अपलम चपलम' का परिचय प्रखयात कवि डॉ.रमाशकर पाण्डेय ने दिया।

संस्था के अध्यक्ष सूबेदार मेजर श्री एस.डी.पाठक एवं दैनिक हिन्दुस्तान आगरा के सहा.प्रबन्धक श्री उमेश पाठक ने संस्था की ओर से श्री गोविन्द शर्मा एवं डॉ.नागेश पाण्डेय'संजय'को प्रद्गास्ति-पत्र व ११५१ -११५१ रुपये की राशि प्रदान कर एवं  डॉ.ओमशिवराज व डॉ.वृन्दावन दास पंड्‌या ने श्री कृप्ण की तस्वीर भेंट कर सम्मानित किया। नगर की विभिन्न संस्थाओं ,साहित्यकारों एवं पत्रकारों व विद्वानों ने श्री गोविन्द शर्मा एवं डॉ.नागेश पाण्डेय'संजय'को माल्यार्पण कर सम्मानित किया।


    कार्यक्रम के दूसरे चरण में डॉ.दिनेश पाठक'शशि' द्वारा सम्पादित दो कहानी संग्रह-''२१वीं सदी की चुनिंदा दहेज कथाएं'' एवं ''आदमखोर'' का एवं डॉ प्रेमदत्त मिश्र मैथिल की पुस्तक-''रिमझिम'' का लोकार्पण बाल साहित्य के पुरोधा डॉ.राप्टबन्धु एवं अध्यक्ष डॉ.सन्तशरण शर्मा ने किया।
    कहानी संग्रह-''२१वीं सदी की चुनिंदा दहेज कथाएं''की समीक्षा साहित्यकार श्री अंजीव अंजुम ने तथा ''आदमखोर'' की समीक्षा डॉ.नटवर नागर ने की।


    कार्यक्रम के तीसरे चरण में एक सरस काव्य गोप्ठी हुई जिसमें डॉ.रमाशंकर पाण्डेय,मनवीर मधुर आदि अनेक कवियों ने अपनी रचनाओं का पाठ किया।


    कार्यक्रम में डॉ.रमाशंकर पाण्डेय,डॉ.वृन्दावन दास पंड्‌या,श्री अनिल सक्सेना चौधरी;जयपुर आचार्य नीरज शास्त्री,श्वेता पाठक ;गाजियावाद सूरजदेवी,विवेक शर्मा,श्री रसिक हाथरसी,उमाशंकर यादव ;हाथरस उमेश पाठक व मीनाक्षी पाठक ;आगरा डॉ.सरोज अग्रवाल,श्री एस.डी.पाठक व श्रीमती श्वेतापाठक ;गाजियावाद रविन्द्रपाल सिंह रसिक,डॉ.ओमशिवराज,डॉ.दीपक गोस्वामी,मदनमोहन उपेन्द्र,आर.सी.भाटियाजी,मूलचंद शर्मा निर्मल,देवी प्रसाद गौड़,डॉ.धर्मराज,डॉ.के.उमराव विवेकनिधि,श्रीमती चंद्रादेवीसिंहउमराव,कु.कवितासिंह,कैप्टन एस.डी.राय,मनवीर मधुर,संतोप कुमार सिंह,हरिदत्त चतुर्वेदी'हरीद्गा',बेलागुप्ता दिल्ली,डॉ नटवर नागर,श्रीमती लीला शर्मा ;संगरिया आदि अनेक साहित्यकार,पत्रकार एवं विद्वान की उपस्थिति कार्यक्रम को गरिमा प्रदान करती रही।


    कार्यक्रम का सफल संचालन उॉ.अनिल गहलौत ने एवं धन्यवाद ज्ञापन डॉ.दिनेश पाठक'शशि ने किया।

1 blogger-facebook:

  1. मथुरा में विद्वानों ने मुझ अकिंचन को बड़ा सम्मान और स्नेह प्रदान किया. अभिभूत हूँ. वे क्षण सदा याद रहेंगे. सदा के लिए आभारी . ना.पा. संजय

    उत्तर देंहटाएं

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------