दामोदर लाल 'जांगिड' की ग़ज़ल

 

image

ग़़ज़ल

छोटा सा कटोरा था उसका, दो मुठ्ठी ले भर आया है।

पर देख के मेरी झोली को, सर दाता का चकराया है॥

 

उन चाँद सितारों को पा कर ,इतराये वो भरमाये वो ,

रस्‍ते का रोड़ा मान जिन्‍हें,बहुधा हमने ठुकराया है।

 

दिल अंकबूत हैं सपनों, ताना बाना बनता रहता,

किस पर दोष मढ़ें जिसने,इसमें हमको फंसवाया है।

 

चीखी थी हदें तानाजन कि, हद होती हैं लाचारी की,

कूव्‍वत होती हैं जिसमें वो,इक हद तक ही रुक पाया है।

 

जब जब भी खुदा से रुठा मैं,हर बार मनाने आया वो,

रुठा हैं खुदा उसका उससे,कर अरदासें उकताया है।

 

मत भाग भरोसे बैठ कभी,कुछ कर के ही कुछ पायेगा,

हाथों की लकीरें देख,नजूमी ने अक्‍सर समझाया है।

--

(चित्र - अमरेन्द्र aryanartist@gmail.com , फतुहा पटना की कलाकृति)

-----------

-----------

0 टिप्पणी "दामोदर लाल 'जांगिड' की ग़ज़ल"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.