शुक्रवार, 25 नवंबर 2011

एस के पाण्डेय की लघुकथा - चरित्र

चरित्र

“चेहरे पर इतनी उदासी क्यों है । लगता है कोई बहुत ही गम्भीर मामला है” । राजीव ने माधव से कहा ।

माधव बोला “हाँ प्रिया के बारे में सोच रहा हूँ । जितने ही नैतिक मूल्यों की बात किया करती थी । वह उतनी ही अनैतिक निकली । उसकी एक-एक बात कानों में गूँजती रहती है-चरित्र बहुमूल्य धरोहर है । जिसने अपना चरित्र खो दिया । उसे जीवन में कुछ खोने के लिए शेष नहीं बचता । हमारे पूरे खानदान में चरित्र को सर्वोपरि माना जाता है । मैं ऐसी-वैसी लड़की नहीं हूँ । तुम मेरे पहले और अंतिम बॉय फ्रेंड हो.......” ।

राजीव बोला “मैंने तुम्हें पहले ही आगाह किया था कि आजकल ऐसी बहुत सी लड़कियाँ हैं जो बाते तो बहुत अच्छी-अच्छी करती हैं । अपने को चरित्रवान बताती हैं । लेकिन वे उतना ही चरित्रहीन होती हैं । एक नहीं अनेक बॉय फिरेंड बनाती हैं । रुपया-पैसा ऐंठती हैं । ऐश करती हैं । टाइम पास होता रहता है । कई तो दिन-रात फोन पे ही व्यस्त रहती हैं । इतने बॉय फिरेंड बना लिए हैं कि बात करने से ही फुर्सत नहीं रहती” ।

माधव बोला “प्रिया की बातों से मैं इतना प्रभावित हो गया था कि उसे सपने में भी गलत नहीं सोच सकता था । लेकिन शुक्र है भगवान का कि उसका खोया पर्स मेरे हाथ लग गया । जिसमें ऐसे पत्र मिलें जिनमें इतनी गंदी और अश्लील शब्दावली का प्रयोग हुआ था जो उसकी और उसके अन्य कई बॉय फिरेंड के चरित्र का बयान करते हैं” ।

राजीव ने कहा “ देर सही पर दुरुस्त जानकारी तो मिल गई । सच में आज देश-समाज की यही दशा है । आज के अधिकांश लोग खासकर लड़के-लड़कियाँ यह भूल चुके हैं कि-

गिरि से गिरकर जो गिरे, गिरे एकही बार ।

जो चरित्र गिरि से गिरे बिगड़े जनम हजार” ।।

---------

डॉ. एस. के. पाण्डेय,

समशापुर (उ.प्र.) ।

URL1: http://sites.google.com/site/skpvinyavali/

ब्लॉग: http://www.sriramprabhukripa.blogspot.com/

*********

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------