गुरुवार, 17 नवंबर 2011

अनुराग तिवारी की कविता - चरणामृत


चरणामृत

श्री हरि के चरणों का अमृत,
गंगा केवल नदी नहीं है।
सदियों से बहती संस्कृति है,
केवल जलधार नहीं है।

सुनो कहानी आज,
गंगा के उद्भव की।
किंचित विस्मृत कर बैठे हम,
कथा वामन प्रभु की।

बाल रूप धर वामन प्रभु
पहुँचे राजा बलि के द्वार।
याचक विप्र समझ राजा ने
किया अतिथि सत्कार।

बोला प्रभु से, ‘बाल विप्र
क्या है तेरी अभिलाषा।
माँगो तज संकोच सब
दान मिलेगा मुँह माँगा।’

भूमि तीन पग माँगी प्रभु ने
राजा मन में मुसकाया।
छोटे-छोटे पैर तुम्हारे
इतने में क्या हेतु सधेगा।

हठ कर बैठे बाल रूप प्रभु
मुझे चाहिए इतना ही।
समझ न पाया प्रभु की इच्छा,
राजा ने हामी भर दी।

स्वीकृति पा राजा की प्रभु ने
देह धरा अत्यन्त विशाल।
पहले पग में नापी धरती
दूजे में सुरलोक विशाल।






कदम तीसरा रखने को
कुछ भूमि बची न रिक्त।
मस्तक प्रस्तुत कर अपना
बलि ने पायी मुक्ति।

देव लोक में ब्रम्हा हरि की
लीला देख रहे थे।
प्रभु पद प्रक्षालन करने को
हर क्षण तैयार खड़े थे।

कदम दूसरा जैसे ही
हरि का पड़ा स्वर्ग लोक में।
पद पंकज प्रक्षालन कर, जल
संचित कर लिया कमंडल में।

बीते काल, भगीरथ ने
तप कर, ब्रम्हा से वर पाया।
हरि चरणामृत की धार वही
धरती पर ले आया।

उस प्रबल वेगवती धारा को
शिव ने जटाओं से मार्ग दिया।
बहती है तब से धरती पर,
जाने कितनों का उद्धार किया।

पर आज वही गंगा माँ,
हमसे कुछ कहती है।
बाँध दिया है हमने उसको,
मंद धार बहती है।

बहा रहे हम इसमें मल जल,
कूड़ा-कर्कट, मुर्दे, राख।
उद्योगों के बहें रसायन,
कपड़े धुलते धोबी घाट।

किसी कथा पूजा में जब हम
चरणामृत पाते हैं।
हाथ पसार ग्रहण करते,
सिर माथ चढ़ा लेते हैं।


कैसी दोहरी सोच समझ यह
कैसा है व्यवहार।
जीवन देने वाली माँ संग
ऐसा अत्याचार।

ध्यान रहे, यदि इस धरती पर
गंगा नहीं रहेगी।
जन जीवन नहीं बचेगा,
धर्म संस्कृति नहीं रहेगी।

गंगा माँ की खातिर हमको
पुनः भगीरथ बनना होगा।
गंदा न करें, न करने दें,
ऐसा प्रण करना होगा।

गंगा मइया माफ़ करें,
हम बुद्धिहीन, मतिमूढ़।
डाल वही हैं काटते,
जिस पर हैं आरूढ़।

हे पाप नाशिनी गंगा माँ,
दो जन को सुविचार।
विचलित औ‘ शर्मिन्दा हूँ,
मैं तेरी दशा निहार।

                         -सी ए. अनुराग तिवारी
                           5-बी, कस्तूरबा नगर,
                           सिगरा, वाराणसी- 221010


(अनुराग तिवारी वाराणसी में चार्टर्ड एकाउन्टेन्ट हैं)

4 blogger-facebook:

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

और दिलचस्प, मनोरंजक रचनाएँ पढ़ें-

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------