शनिवार, 24 दिसंबर 2011

गोवर्धन यादव की लघुकथा - कीमती कपड़े

दो मित्र थे. रामदयाल और दीनदयाल. रामदयाल काफ़ी गरीब था,जबकि दीनदयाल करोड़पति. दो असमान ध्रुव पर खडे रहकर भी. उनकी आपस में खूब निभती थी.


एक दिन दीनदयाल ने अपने मित्र रामदयाल से कहा:- मित्र, जब भी तुम भा‍षण देने मंच पर जाते हो, वही पुराने फ़टे-पूराने कपड़े पहन कर जाते हो, मुझे अच्छा नहीं लगता. मेरे पास एक से बढकर एक ड्रेसे है, तुम पहनकर जाया करो. अपने मित्र की बात सुनकर रामदयाल ने उसका दिल रखने के लिए हामी भर दी. अब वह, जब भी,जहाँ भी जाता अपने मित्र के कपडॆ पहनकर जाने लगा.


किसी एक प्रति‍ष्ठित मंच पर रामदयाल अपना व्याख्यान दे रहा था और सामने की कुर्सी पर उसका मित्र बैठा उसे सुन रहा था. श्रोतागण उसकी बात पर जब तब दाद देते और तालियाँ भी बजाया करते थे. यह यह सब देखकर दीनदयाल को काफ़ी प्रसन्न्ता हो रही थी. उसने अपने ठीक बगल में बैठे व्यक्ति से कहा:- मित्र, मंच पर जो व्यक्ति भा‍षण दे रहा है, वह उसका घनिष्ठ मित्र है और उसने जो कपड़े पहन रखे हैं,वह मेरे है. उसकी बात सुनने के बाद भी उसने अपनी कोई प्रतिक्रिया नहीं दी. उसने अब दूसरी तरफ़ बैठे व्यक्ति से वही बात दुहरायी,लेकिन इसने भी कोई जवाब नहीं दिया. जवाब न पाकर उसका मन बैठने लगा था.


अपना भा‍षण समाप्त करने के बाद अब उसका मित्र प्रसन्न्ता से लकदक उसकी ओर बढा चला आ रहा था. लोग अपनी-अपनी सीट से खडे होकर उसका अभिवादन करने लगे थे. दीनदयाल के मन में अब भी वही खिचड़ी पक रही थी. उसने अधीर होकर अपने मन की बातें औरों को भी बतलाना शुरु कर दिया .बातें करते समय उसे इस बात का तनिक भी आभास नहीं हो पाया कि उसका मित्र काफ़ी करीब आ चुका है और उसने उसकी सारी बाते सुन लिया है. बात सुन चुकने के बाद भी उसने अपनी ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं दी और आकर अपने मित्र के पास आकर खडा हो गया.अपने मित्र को पास पाकर दीनदयाल ने उसे गले से लगाते हुए ढेरों सारी बधाइयां दी.

अगले किसी कार्यक्रम में रामदयाल पहले की तरह अपना व्याख्यान देने में तल्लीन था. कुछ देर तक बोलने के बाद उसने मंच पर से उपस्थित श्रोताओं से कहा":- मित्रों.. मेरा भा‍षण अभी समाप्त नहीं हुआ है. बस दो मिनट बाद मैं अपनी बात जारी रखूंगा. कृपया थोड़ा सा इन्तजार कीजिये." इतना कहकर वह परदे के पीछे गया. वहाँ जाकर उसने अपने धनी मित्र के दिए कपड़ों को उतारकर अपनी पुरानी पो‍षाक पहनी और मंच पर आकर उसी धाराप्रवाह में अपना भा‍षण देना शुरु कर दिया . इस बार उसके चेहरे पर छा रहा तेज देखने लायक था. वह पूरे जोश और उत्साह के साथ अपनी वाणी को मुखर कर पा रहा था.


सामने की सीट पर बैठा उसका मित्र यह सब देख रहा था. जैसे ही भा‍षण समाप्त हुआ ,वह पूर्व की तरह मुस्कुराता हुआ अपने मित्र की तरफ़ बढा चला आ रहा था. बीच में ही लोगों ने उसे घेर लिया था और उसे ढेरों सारी शुभकामनाएं तथा बधाइयाँ देने लगे थे. वह बड़ी ही विनम्रता से सबकी बधाइयाँ स्वीकारता अपने मित्र के पास आ खड़ा हुआ. दीनदयाल को अब समझ में आया कि कीमती कपड़े पहनना और बात है, और बुद्धिमान होना और बात है.


गोवर्धन यादव
103,कावेरी नगर,छिन्दवाडा (म.प्र.) 480001

1 blogger-facebook:

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------