विजय कुमार शर्मा "आज़ाद" की कविता

-----------

-----------

Image062 (Custom)

ऐ बरसते मेघ , ना भिगा मेरे तन को

ऐ बरसते मेघ , ना भिगा मेरे तन को

क्यों ये आग सी लगी है , मेरे मन को

मैं अभागा हूँ पर , कौतूहल है सबको

मेरी पीर में मजा आया , मेरे रब को

क्यों खामोश जी रहा हूँ , मैं क्षण क्षण को

ऐ बरसते मेघ , ना भिगा मेरे तन को

 

मुझे तो लूट लिया, किसी के शबाब ने

उसके मस्त नैन ने , उसके हाव भाव ने

दूर था पर, मिला दिया उसकी छांव ने

मुझ 'आज़ाद' को विवश किया , उसकी चाव ने

मैं तो उठ चल दिया , विरह के वन को

ऐ बरसते मेघ , ना भिगा मेरे तन को

-----------

-----------

0 टिप्पणी "विजय कुमार शर्मा "आज़ाद" की कविता"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.