शुक्रवार, 23 दिसंबर 2011

संजय कुमार की कविता - बुरा आदमी

image

बुरा आदमी

हां मैं बुरा आदमी हूं,

ऐसा लोग कहते हैं,

और मैं ये जानता हूं,

कि लोग ऐसा कहते हैं ।

नहीं करता मैं समझौता,

झूठ के साथ,

और नहीं करता समर्थन,

गलत बात का,

भीख भी नहीं देता मैं,

हट्‌टे-कट्‌टे नौजवान को,

डांट भी देता हूं,

भिखारी बालक को,

मैं कह देता हूं मुंह पर,

सच्‍ची बात,

और तोड़ देता हूं दिल दोस्‍तों का भी,

माफी भी नहीं मांगता फिर उनसे,

मेरे दोस्‍तों की संख्‍या भी ज्‍यादा नहीं है,

क्‍योंकि मैं बुरा आदमी हूं,

और मैं ये जानता भी हूं।

रुठ जाती है, कई बार पत्‍नी भी,

उलाहना भी देती है,

और फिर कर लेती है स्‍वीकार,

मेरे कटु निर्णय को

नहीं तोड़ने देता मैं बच्‍चों को,

पेड़ से कच्‍चे फल,

और कचरा भी नहीं फेंकने देता मैं, गली में,

पड़ोसियों को,

मेरा काम नहीं है, ये जानते हुए भी,

मैं लड़ जाता हूं, अनजान के लिए,

जानकारों से भी, इंसाफ की खातिर,

मैं नहीं करता सिफारिश किसी की भी,

लोग मुझे सनकी कहते है।

मैं चल पड़ता हूं, विपरीत

व्‍यवस्‍थाओं के भी

मैं बुरा आदमी हूं ऐसा लोग कहते हैं

और मैं जानता हूं

कि लोग क्‍या कहते हैं,

पर मुझे नहीं पड़ता फर्क

नहीं आती शर्म,

बुरा आदमी कहलाने में

अब आप ही बताइये

क्‍या मैं बुरा आदमी नहीं हूं ?

--

संजय कुमार 

वास्ते भारतीय खाद्य निगम 

खाद्य संग्रहण आगार 

हनुमानगढ़ टाउन

३३५५१३

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------