शुक्रवार, 30 दिसंबर 2011

एस. के. पाण्डेय के हास्य-व्यंग्य दोहे

image

।। दोहे।।

भैया ते नर अब नहीं  जो मिलते जब काम।
काम में खोजे न मिलैं ऐसे मनुज तमाम।। 

बचन देत जो फिरत हैं और नहीं भय लाज।
यसकेपी दर-दर मिलैं ये नर भरे समाज।।

हँसत मिलैं बोलैं मधुर बहुत जतावैं प्यार।
यसकेपी तिनमें नहीं सब को साचो यार।।

कुसल छेम बहु पूछते कुसल सुने दुख भार।
यसकेपी नहि झूठ है ऐसे लोग हजार।।

को अपना को गैर है कौन करे कब वार।
यसकेपी नहि जानता सब झूठों व्यवहार।।


राजा रंक मुरख निपुन ऋषि महर्षि सब देव।
यसकेपी मरने चले बचा नहीं जग केव।।

प्रतिपल बदले सरकता सो जानो संसार।
नसोंमुख यहि जगत में प्रेम राम को सार।।   

अहम स्वार्थ अज्ञान बस बन बैठे भगवान।
यसकेपी या जगत में ऐसे बड़े महान।।

साच कहौं नहि झूठ कछु तजौ मान अभिमान।
यसकेपी पहिचानिए जा सेवक हनुमान।।

यसकेपी रघुपति सही बाकी सब है झूठ।
राम न रूठैं होय का जगत जाय जो रूठ।।

ग्रह भूत देवादि जग पूज सरे कछु काम।
अंत समय मुख मोड़ते आते सीताराम।।

जगत विदित सच एक है जगत रहा पर सोय।
यसकेपी देखा-सुना राम नाम सत होय।।

हाय-हाय कर चल बसे शेष रहे बहु काम।
यसकेपी अब का करे भूल गए श्रीराम।।

नाम-दाम लगि पचि मरे हुआ न पर उपकार।
यसकेपी बढ़ता गया जग का यह व्यापार ।।

राम बिना आराम नहि लोग हुये बेराम।
दर-दर सुख खोजत फिरैं खरच रहे बहु दाम।।

राम से चाहैं लोग बहु जग को चाहै राम।
यसकेपी जो चाहता ताहीं को आराम।।

बुरे समय नहि पास को सब मिलते निज काम।
भले-बुरे हर पल मिलैं यसकेपी के राम।।
---------
डॉ. एस. के. पाण्डेय,
समशापुर (उ.प्र.)।
 
URL1: http://sites.google.com/site/skpvinyavali/

ब्लॉग: http://www.sriramprabhukripa.blogspot.com/
                *********

(चित्र - अमरेन्द्र aryanartist@gmail.com , फतुहा, पटना की कलाकृति)

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

------------------------------------------------------------

प्रकाशनार्थ रचनाएँ आमंत्रित हैं...

1 करोड़ से अधिक पृष्ठ-पठन, 1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक तथा 2000 से अधिक फ़ेसबुक प्रसंशक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को इंटरनेट के विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.किसी भी फ़ॉन्ट, टैक्स्ट, वर्ड या पेजमेकर फ़ाइल में रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------