ईश्वर कुमार साहू की कविता - मुझे भूलना मत

image

दिया कहे धरती से तू आधार है मेरा

यहाँ से कभी हटना मत,

तेल कहे दिया से तू आधार है मेरा

कभी भी फूटना मत ,

बाती कहे तेल से तू आधार है मेरा

कभी सिर से लेकर डुबोना मत ,

प्रकाश कहे बाती से तू आधार है मेरा

सच्चे प्रकाश में तू बुझना मत,

भगवन कहे भक्तों से तू आधार है मेरा

जग में जाकर मुझे भूलना मत,

*********************

 

लेखक

ईश्वर कुमार साहू

ग्राम - बंधी, पो. - दाढ़ी,

तहसील/ जिला - बेमेतरा,

(छत्तीसगढ़)

वर्तमान पता :-

गंगा तालाब के पास

साहू किराना दुकान,

गंगा नगर, भनपुरी, रायपुर

(छत्तीसगढ़)

--

(चित्र - अमरेन्द्र aryanartist@gmail.com  फतुहा, पटना की कलाकृति)

-----------

-----------

0 टिप्पणी "ईश्वर कुमार साहू की कविता - मुझे भूलना मत"

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.