रविवार, 4 दिसंबर 2011

ईश्वर कुमार साहू की कविता - मुझे भूलना मत

image

दिया कहे धरती से तू आधार है मेरा

यहाँ से कभी हटना मत,

तेल कहे दिया से तू आधार है मेरा

कभी भी फूटना मत ,

बाती कहे तेल से तू आधार है मेरा

कभी सिर से लेकर डुबोना मत ,

प्रकाश कहे बाती से तू आधार है मेरा

सच्चे प्रकाश में तू बुझना मत,

भगवन कहे भक्तों से तू आधार है मेरा

जग में जाकर मुझे भूलना मत,

*********************

 

लेखक

ईश्वर कुमार साहू

ग्राम - बंधी, पो. - दाढ़ी,

तहसील/ जिला - बेमेतरा,

(छत्तीसगढ़)

वर्तमान पता :-

गंगा तालाब के पास

साहू किराना दुकान,

गंगा नगर, भनपुरी, रायपुर

(छत्तीसगढ़)

--

(चित्र - अमरेन्द्र aryanartist@gmail.com  फतुहा, पटना की कलाकृति)

0 blogger-facebook

एक टिप्पणी भेजें

रचनाओं पर आपकी बेबाक समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद.

स्पैम टिप्पणियों (वायरस डाउनलोडर युक्त कड़ियों वाले) की रोकथाम हेतु टिप्पणियों का मॉडरेशन लागू है. अतः आपकी टिप्पणियों को यहाँ प्रकट होने में कुछ समय लग सकता है.

----

1.5 लाख गूगल+ अनुसरणकर्ता, 1500 से अधिक सदस्य

/ 2,500 से अधिक नियमित ग्राहक
/ प्रतिमाह 10,00,000(दस लाख) से अधिक पाठक
/ 10,000 से अधिक हर विधा की साहित्यिक रचनाएँ प्रकाशित
/ आप भी अपनी रचनाओं को विशाल पाठक वर्ग का नया विस्तार दें, आज ही नाका से जुड़ें. नाका में प्रकाशनार्थ रचनाओं का स्वागत है.अपनी रचनाएँ rachanakar@gmail.com पर ईमेल करें. अधिक जानकारी के लिए यह लिंक देखें - http://www.rachanakar.org/2005/09/blog-post_28.html

विश्व की पहली, यूनिकोडित हिंदी की सर्वाधिक प्रसारित, समृद्ध व लोकप्रिय ई-पत्रिका - नाका

मनपसंद रचनाएँ खोजकर पढ़ें
गूगल प्ले स्टोर से रचनाकार ऐप्प https://play.google.com/store/apps/details?id=com.rachanakar.org इंस्टाल करें. image

--------